दंपति ने वाशिम में लगाई फांसी

ढाणकी. तहसील के चुरमुरा के एक पति-पत्नी ने वाशिम में गले में फांसी का फंदा लगाकर खुदकुशी कर ली. आत्महत्या का कारण मालूम नहीं हो पाया है. लेकिन मृतक पिता ने अपने पिता को मृत्यु पूर्व लिखी चिट्टी में

ढाणकी. तहसील के चुरमुरा के एक पति-पत्नी ने वाशिम में गले में फांसी का फंदा लगाकर खुदकुशी कर ली. आत्महत्या का कारण मालूम नहीं हो पाया है. लेकिन मृतक पिता ने अपने पिता को मृत्यु पूर्व लिखी चिट्टी में कहा कि ‘ बाबा मेरी बेटी की देखभाल करो’. मामले की जांच पुलिस कर रही है.

सूत्रों के अनुसार सुनील जाधव (26) व रोशनी सुनील जाधव (23) का विवाह चार साल पूर्व हुआ था. यहां से 4 किमी दूरी पर स्थित चुरमुरा से कामकाज के सिलसिले में वाशिम गए हुए थे. सुनील एक देशी बार में वितरक का काम करता था. वाशिम में किराये के मकान में रहकर पत्नी, बहन मुन्नी व ढाई साल की बच्ची का पालन पोषण वह करता था. इस दौरान मृतक सुनील अपने पिता को चुरमुरा गांव में रोजाना दिन में चार बार फोन करता था. आत्महत्या करने के दिन भी सुनील ने अपने पिता से फोन पर बात की थी. लेकिन तब सुनील बोलने से ऐसा कुछ नहीं लगा, बल्कि उसने खुशी से बात की थी.

दूसरे दिन सुबह 4 बजे फोन आने पर चुरमुरा से सुनील के पिता व परिजनों के साथ निकले. तब सुनील ने मृत्युपूर्व लिखी चिट्ठी में ‘बाबा मुझे बहुत तकलीफ है, अब मुझे मरना है, मेरे बेटी की देखभाल करना’ और भाई अनिल को माता, पिता का ध्यान रखने को कहा. इस घटना में गांव में शोक की लहर व्याप्त थी. पूर्व सरपंच अर्जुन जाधव ने बताया कि मृतक सुनील व रोशनी यह दोनों पती-पत्नी 15 दिन पहले चुरमुरा में परिजन के यहां शादी समारोह में आए थे. इन दोनों शादी समारोह में नाचकर दोनों आनंद लिया था.