लावारिस लाश प्रकरण: पुरानी रंजिश में की हत्या, तीन आरोपी पुलिस हिरासत में

    आसेगांव. मंगरूलपीर तहसील व आसेगांव पुलिस थाना के अंतर्गत आनेवाले ग्राम कासोला दस्तापुर मार्ग की पुलिया के समीप 13 जुलाई की सुबह अज्ञात व्यक्ति की लाश लावारिस अवस्था में पड़ी मिली थी. पहले इस प्रकरण में दस्तापुर मसोला के पुलिस पाटिल द्वारा दी गई शिकायत के अनुसार आकस्मिक मृत्यु के तहत मामला दर्ज कर आसेगांव पुलिस ने जांच आरंभ की थी. लेकिन 14 जुलाई को मृतक की पत्नी द्वारा संदिग्ध मौत के मामले को हत्या करार देते हुए आसेगांव पुलिस थाने में ग्राम मांडवा निवासी तीन आरोपियों के खिलाफ हत्या किए जाने के संदेह पर शिकायत दर्ज कराई गई.

    जिस की जांच तेज गति से करते हुए आसेगांव पुलिस द्वारा शिकायत में उल्लेख किए गए आरोपियों को पुलिस ने 48 घंटों के भीतर ही हिरासत में लिया. जांच के दौरान आरोपियों ने पुरानी रंजिश के चलते मृतक मुकेश भगत नामक व्यक्ति की हत्या किए जाने की बात कबूल की. हत्या किस कारण को लेकर की गई इस बात की पुष्टि भी आरोपियों ने पुलिस को पूछताछ के दौरान बताई.

    मृतक की हत्या किए जाने के उद्देश्य से आरोपियों ने उसे अपनी मोटर साइकल पर बिठा कर ग्राम मांडवा से वाशिम मार्ग पर लेकर जाने की बात कबूल की. फिर दस्तापुर से ग्राम कासोला लेकर गए. जहां आरोपियों व मृतक ने शराब का सेवन किया. वापस लौटते समय इस मार्ग पर एक पुलिया के समीप रुके.

    इस दौरान आरोपियों व मृतक में किसी बात को लेकर विवाद हुआ. तब ही आरोपियों ने मुकेश भगत को पुलिया से नीचे धकेल कर पानी में डूबोकर हत्या कर फरार हो गए. आरोपियों द्वारा कबूल की गई अपराध की बात तथा मृतक की पत्नी रवीशा भगत (30) द्वारा दर्ज की गई शिकायत अनुसार थाने में धारा 302,34 आईपीसी के तहत आरोपी रवि बाड़े, अजय बाड़े, शुध्दोधन सोनोने के खिलाफ मामला दर्ज किया है.

    शिकायत दर्ज होते ही 48 घंटों के भीतर आसेगांव पुलिस दल ने जांच कर ग्राम मांडवा के ही निवासी इन तीन आरोपियों को गांव से फरार होने से पूर्व ही हिरासत में लेने में सफलता प्राप्त की है. इस प्रकरण की जांच दल में थानेदार स्वप्निल तायडे, पीएसआई किशोर खंडार तथा अन्य पुलिस कर्मचारियों ने सफलता पूर्वक सराहनीय कार्य किया.

    आरोपियों को 15 जुलाई को न्यायालय में पेश किए जाने पर न्यायालय ने सभी आरोपियों को 20 जुलाई तक हिरासत में रखने के आदेश दिए. हत्या प्रकरण में और भी क्या सत्य रहस्य सामने आता है़  क्या और भी इस प्रकरण में आरोपियों की संख्या में बढ़ोत्तरी होती है़  इस पर सभी की निगाहें लगी है.