चिकित्सकीय आपात स्थिति के लिए भारतीय मूल के लोगों को देश जाने की अनुमति दें

न्यूयॉर्क. यहां के एक प्रख्यात सामाजिक कार्यकर्ता ने भारतीय अधिकारियों से भारतीय मूल के उन लोगों को देश जाने की अनुमति देने की प्रक्रिया तेजी से शुरू करने का अनुरोध किया है जिनके पास अमेरिकी पासपोर्ट तो है लेकिन ओसीआई कार्ड नहीं है तथा उनका परिवार वहां किसी प्रकार की चिकित्सकीय आपात स्थिति का सामना कर रहा है। जयपुर फुट अमेरिका के प्रमुख प्रेम भंडारी ने इस संबंध में गृह सचिव अजय भल्ला को पत्र लिखा है। भंडारी ने कोविड-19 वैश्विक महामारी के बीच अमेरिका में फंसे कई भारतीयों को घर वापस भेजने में मदद की है। उन्होंने भल्ला से आग्रह किया कि वैश्विक महामारी के दौरान भारत जाने के लिए भारतीय मूल के उन यात्रियों के लिए त्वरित यात्रा को सुगम बनाया जाए जिनके पास विदेशी पासपोर्ट तो है लेकिन भारत जाने के लिए हो सकता है उनके पास वीजा या विदेशी भारतीय नागरिक (ओसीआई) कार्ड न हो।

मई में, भारत सरकार ने कोविड-19 महामारी के चलते भारत से आने और वहां जाने वाली अंतरराष्ट्रीय उड़ानों के बंद रहने तक कुछ श्रेणियों को छोड़कर अन्य विदेशी नागरिकों को दिए गए सभी मौजूदा वीजा पर रोक लगा दी थी। हालांकि, भारत सरकार ने ओसीआई कार्डधारक की कुछ श्रेणियों को देश की यात्रा की अनुमति दी थी जो विदेश में फंसे हुए थे। भंडारी ने कहा कि उन्हें ऐसे कई मामलों की जानकारी है जहां भारतीय मूल के व्यक्ति जिनके पास वीजा के साथ विदेशी पासपोर्ट है लेकिन ओसीआई कार्ड नहीं है और जो माता-पिता या परिवार के किसी सदस्य की मौत या किसी सदस्य द्वारा चिकित्सकीय आपात स्थिति का सामना किए जाने जैसी आपात स्थितियों में भारत नहीं जा पा रहे हैं। उन्होंने पत्र में कहा, “जैसा कि आपको पता है कि भारतीय मूल के ऐसे कई व्यक्ति हैं जिनके पास पासपोर्ट है लेकिन वीजा या ओसीआई कार्ड नहीं। लेकिन उनका भारत जाना बहुत जरूरी है पर वे वीजा या ओसीआई की जरूरतों के कारण नहीं जा पा रहे जो अपने आप में एक बेहद लंबी प्रक्रिया है।” भंडारी ने इस प्रक्रिया में तेजी लाकर वीजा प्रक्रिया एवं एयरलाइन में सीट देने में भारतीय मूल के लोगों को प्राथमिकता देने तथा उचित दस्तावेजों के तेज प्रमाणीकरण का अनुरोध किया। (एजेंसी)