Representative Image
Representative Image

    वाशिंगटन: अमेरिकी अधिकारियों (US Officials) के साथ एक असाधारण सार्वजनिक टकराव के बाद एस्ट्राजेनेका (AstraZeneca) ने जोर दिया कि उसका कोविड-19 टीका (Covid-19 Vaccine) विवादित अमेरिकी अध्ययन (Research) में अतिरिक्त मामलों की गणना के बावजूद भी काफी प्रभावी है। एस्ट्राजेनेका ने बुधवार को देर रात जारी की प्रेस विज्ञप्ति में कहा कि उसने अध्ययन के आंकड़ों की पुनर्गणना की और इस नतीजे पर पहुंची कि यह टीका कोरोना वायरस (Corona Virus) संक्रमण के ऐसे मामलों में 76 प्रतिशत तक प्रभावी है, जिनमें संक्रमण के लक्षण होते हैं। इस हफ्ते की शुरुआत में किए गए अध्ययन में उसने टीके के 79 प्रतिशत तक प्रभावी होने का दावा किया था।

    एक दिन पहले ही अध्ययन का विश्लेषण करने वाली एक स्वतंत्र समिति ने एस्ट्राजेनेका पर आंकड़ों को छिपाने का आरोप लगाया था। समिति ने कंपनी और अमेरिकी स्वास्थ्य अधिकारियों को कड़े शब्दों में लिखे पत्र में कहा कि कंपनी ने अध्ययन में जिक्र किए गए कुछ कोविड-19 मामलों को छोड़ दिया है। कुछ विशेषज्ञों ने कहा कि एस्ट्राजेनेका द्वारा उपलब्ध कराया गया नया आंकड़ा “आश्वस्त” करने वाला है और यह जानकारी अमेरिकी नियामकों को टीके को मंजूरी देने के लिये पर्याप्त प्रतीत होती है।

    शोध से संबद्ध नहीं रहे लीसेस्टर विश्वविद्यालय के विषाणु रोग विशेषज्ञ जूलियन तांग ने कहा, “हो सकता है एस्ट्राजेनेका ने पूरे आंकड़ों का विश्लेषण कर उन्हें जमा करने के बजाय पहले शुरुआती, अपूर्ण अंतरिम विश्लेषण जमा करने में जल्दबाजी की हो।” उन्होंने कहा कि अद्यतन विवरण इस हफ्ते पूर्व में प्रकाशित जानकारी से बहुत ज्यादा अलग नहीं है। अध्ययनों में आंकड़ों को लेकर होने वाले विवाद आमतौर पर गोपनीय रखे जाते हैं लेकिन राष्ट्रीय स्वास्थ्य संस्थान ने अप्रत्याशित कदम उठाते हुए एस्ट्राजेनेका को सार्वजनिक तौर पर विसंगतियों को दूर करने के लिए कहा।

    एस्ट्राजेनेका टीके को लेकर फिर से विश्वास बहाल करने के उद्देश्य से पूर्व में अमेरिका में 32000 लोगों पर हुए अध्ययन के नतीजों की गणना कर रही थी। ब्रिटेन, यूरोप और अन्य देशों में बड़े पैमाने पर उपयोग के बावजूद यहां उसके इस्तेमाल को लेकर मुश्किलें खड़ी हो रही हैं। पूर्व में हुए अध्ययनों के आंकड़े इसके प्रभाव को लेकर एकरूप नहीं रहे हैं और इसके बाद पिछले हफ्ते खून के थक्के जमने की आशंका के बाद कुछ देशों में इसका टीकाकरण कुछ समय के लिए रोक दिया गया था।

    यूरोपियन मेडिसिन्स एजेंसी के टीकों से खून का थक्का जमने को बढ़ावा नहीं मिलने की बात कहे जाने के बाद अधिकतर देशों ने इसका इस्तेमाल फिर शुरू कर दिया है। हालांकि उसने यह टीका लगवाने वालों को इस संदर्भ में निगरानी बरतने की सलाह दी है। अब सवाल यह है कि क्या कंपनी की नयी गणना से इसके प्रभाव को लेकर उत्पन्न तनाव खत्म हो जाएगा।

    बुधवार को अमेरिका के संक्रामक रोग विशेषज्ञ डॉ. एंथनी फाउची ने पत्रकारों से कहा कि उन्हें उम्मीद है कि जब संघीय नियामक सभी आंकड़ों की सार्वजनिक रूप से जांच कर लेंगे तो विवाद खत्म हो जाएगा। उन्होंने अनुमान जताया कि यह अच्छा टीका साबित होगा। एस्ट्राजेनेका की नयी गणना कोविड-19 के 190 मामलों पर आधारित है जो अध्ययन के दौरान उभरे। यह इस हफ्ते के शुरू में अध्ययन में शामिल किये गए मामलों की संख्या से 49 ज्यादा हैं।