The way to celebrate 9/11 commemoration changed due to Corona outbreak

न्यूयार्क: अमेरिका (America) में कोरोना वायरस (Corona Virus) के प्रकोप के कारण 9/11 की बरसी भी अलग ढंग से मनाई जा रही है। न्यूयार्क (New York) में शुक्रवार को दो स्थानों पर स्मृति कार्यक्रम का आयोजन किया गया, एक तो वर्ल्ड ट्रेड सेंटर पर बने मेमोरियल प्लाजा में और दूसरा नजदीक के एक अन्य स्थान पर।

पेंटागन (Pentagon) के स्मृति कार्यक्रम में पीड़ितों के परिजन तक को शामिल होने की इजाजत नहीं दी गई। वैसे, लोग छोटे समूहों में शाम के वक्त वहां बने स्मारक पर जा सकते हैं। अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप (Donald Trump) पेन्सिलवेनिया में शेंक्सिविले स्थित ‘फ्लाइट 93 नेशनल मेमोरियल’ पहुंचे।

राष्ट्रपति पद के उम्मीदवार तथा ट्रंप के डेमोक्रैटिक प्रतिद्वंद्वी जो बाइडेन दोपहर में वहां पहुंचेंगे। ट्रंप और बाइडेन का उद्देश्य यूं तो यहां स्मृति कार्यक्रम में शामिल होना है लेकिन इस स्थान के राजनीतिक महत्व को भी नजरअंदाज नहीं किया जा सकता। पेन्सिल्वेनिया में जीतना दोनों के लिए बहुत मायने रखता है।

2016 में ट्रंप यहां से जीते थे लेकिन जीत का अंतर एक फीसदी अंक से भी कम था। उप राष्ट्रपति माइक पेंस भी ग्राउंड जीरो पर आएंगे। इस वर्ष 9/11 की बरसी बहुत मुश्किल हालात में हो रही है, जब अमेरिका में स्वास्थ्य संकट मुंह बाए खड़ा है, वहीं दूसरी ओर नस्ली अन्याय को लेकर प्रदर्शन चल रहे हैं। फिर भी उस आतंकवादी घटना के पीड़ितों के परिजन का कहना है कि इस दिन को याद करना जरूरी है जिसने अमेरिकी नीति को आकार दिया और हवाईअड्डों से लेकर दफ्तर की इमारतों तक सुरक्षा और दैनिक जीवन को लेकर नजरिए को बदला।

बहरहाल, देशभर में कई समुदायों ने 9/11 स्मरणोत्सव कोरोना वायरस महामारी के कारण रद्द कर दिया। अमेरिका में 11 सितंबर, 2001 को अगवा किए गए विमानों की मदद से वर्ल्ड ट्रेड सेंटर पर हुए आतंकवादी हमले में करीब 3,000 लोगों की मौत हुई थी।