हिंसा, लूट, अराजकता, अव्यवस्था बर्दाश्त नहीं की जाएगी : व्हाइट हाउस

वाशिंगटन. अमेरिका के मिनियापोलिस में श्वेत पुलिस अधिकारी द्वारा निहत्थे अश्वेत व्यक्ति की हत्या को लेकर हो रहे राष्ट्रव्यापी प्रदर्शनों के बीच व्हाइट हाउस ने कहा है कि हिंसा, लूट, अराजकता और अव्यवस्था को बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। व्हाइट हाउस की प्रेस सचिव कैली मैकनैनी ने सोमवार को संवाददाताओं से कहा “राष्ट्रपति ने साफ कर दिया है कि हम अमेरिका की सड़कों पर जो देख रहे हैं, वह अस्वीकार्य है। हिंसा, लूट, अराजकता, अव्यवस्था को बर्दाश्त नहीं किया जाएगा।” उन्होंने अश्वेत व्यक्ति जॉर्ज फ्लॉयड की हिरासत में मौत के बाद से हो रहे प्रदर्शनों में दंगों और लूट का संदर्भ देते हुए कहा, “साधारण और साफ बात है। ये आपराधिक कृत्य प्रदर्शन नहीं हैं, ये अभिव्यक्ति नहीं हैं, ये अपराध हैं जो बेकसूर अमेरिकी नागरिकों को नुकसान पहुंचा रहे हैं।” फ्लॉयड की मौत के खिलाफ हिंसक प्रदर्शनों की आग अमेरिका की 140 शहरों तक पहुंच गई है, जिसे देश में पिछले कई दशकों की सबसे खराब नागरिक अशांति माना जा रहा है। उत्तर में न्यूयॉर्क से लेकर दक्षिण में ऑस्टिन तक और पूर्व में वांशिगटन डीसी से लेकर पश्चिम में लॉस एंजिलिस तक कई प्रदर्शनों ने हिंसक रूप ले लिया है।

प्रेस सचिव ने बताया कि 24 राज्यों में नेशनल गार्ड के करीब 17,000 सैनिकों की तैनाती की गई है। मैकनैनी ने कहा, ‘‘पहला संशोधन शांतिपूर्ण तरीके से एकत्र होने के अधिकार की गारंटी देता है, हमने वाशिंगटन और देश के अन्य हिस्सों में पिछली रात जो देखा वह यह नहीं था। इसलिए, राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप इन हरकतों को गलत बता रहे हैं ताकि अमेरिकी नागरिकों, अमेरिकी कारोबारों को बचाया जा सके।” उन्होंने कहा, “कुल 3,50,000 नेशनल गार्ड उपलब्ध हैं और अराजकता के लिए और कदम उठाए जाएंगे। देश भर के गवर्नरों को कार्रवाई करनी होगी, नेशनल गार्ड की तैनाती करनी होगी क्योंकि यह अमेरिकी समुदायों को बचाने के लिए उचित है।” सवालों पर प्रतिक्रिया देते हुए, मैकनैनी ने कहा कि ओवल ऑफिस का संबोधन या राष्ट्र के नाम संबोधन इस अराजकता का समाधान नहीं है।