यवतमाल में 14 करोड के विकास कार्य, मानसून का मुहूर्त

  • नगरोत्थान, व नागरी दलीत बस्तियां, सडके और शहरी सुधार योजना पर जोर

यवतमाल. नगर परिषद एक ही समय में शहर में 13 करोड 96 लाख 8 हजार 56 रुपए के काम शुरु कर रही है. नगर परिषद को नगरोत्थान महाअभियान व नागरी दलीत बस्ति सुधार योजना का निधि समय सीमा 31 मार्च 2021 तक बढा दी गई है. नगर पालीका की ओर 2019-20 के लिए योजना के निधि शेष थी. इस पर अब काम शुरू हो रहा है. नगरोत्थान महाअभियान से 7 करोड 1 लाख 51 हजार निधि प्राप्त हुए हैं. नगरपालीका के हस्सिे के 25 प्रतिशत ऐसा कुल 75 लाख रुपये का भुगतान करना होगा. नगरत्थान के तहत कुल 27 कार्यों को प्रशासनिक और वत्तिीय स्वीकृति दी गई है.  तकनीकी स्वीकृति भी मिल गई है. इनमें मुख्य रुप से डामरी सडकें, बडी-बडी नालों के लिए स्टेनिंग वॉल, कांक्रिट की सडके शामिल है. नागरी दलित बस्ति सुधार योजना से 6 करोड 8 लाख 17 हजार 56 रुपयों की 22 कार्यों को हाथ में लिया गया है.

इनमें से डामरी रास्ते, सडकों को चौडा करना व सिमेंट कांक्रिट रास्तों का समावेश है. नगर परिषद ने इसे प्रशासकिय व वत्तियि मंजूरी प्रदान की होकर महाराष्ट्र जिवन प्राधिकरण के कार्यकारी अभियांता से तकनीकि स्वीकृति ली गई है. नागरी दलित बस्ति सुधार योजना से 22 व नगरोत्थान में से 27 ऐसे 49 कार्यों को एक ही समय शुरू किया जा रहा है. नतीजतन, शहर के अधिकांश हस्सिों में सडकों और नालियों का नर्मिाण किया जाएगा. नगर परिषद अभियंता विनायक देशमुख के स्तर पर काम करने की योजना बनाई जा रही है.

अबतक ठप पडे काम को बारिश के मौसम में शुरू होने की उम्मीद है. कार्य की गुणवत्ता के बारे में संदेह शहर में इससे पूर्व सडकों और अन्य विकास कार्यों के लिए 14 करोड का निधि विशेष प्रयासों से लाया था. हालांकि विधानसभा चुनावों के दौरान यह कार्य जल्दबाजी में पूरा हुआ. कभी नहीं इतना बढते क्षेत्र में डामर के रास्तों के कार्य किए गए. हालांकि जल्दबाजी से इसकी गुणवत्ता बनाए नहीं रखा गया था. अब  इन सडकों की हालत खस्ता हो गई है. आशा है कि किए आनेवाले कार्यों को गुणवत्ता को बनाए रखा जाएगा.