AP में फंसे मजदूरों ने लगाई गुहार, कर रहे घर वापसी का इंतजार

यवतमाल. जिले के घाटंजी, आर्णी और यवतमाल तहसील के आंध्र प्रदेश के गुंटूर जिले के इतुकुरू में मजदूरी करने गए 3 से 4 परिवार के कुल 15 लोग बीते 2 माह से फंसे हुए हैं. इन सभी मजदूरों ने सरकार से घर जाने के लिए मदद की गुहार लगाई है. यह सभी अपने घर वापसी का इंतजार

2 माह से लॉकडाउन
कोरोना महामारी को फैलने से रोकने के लिए 2 माह पूर्व देशभर में लॉकडाउन घोषित किया गया है. पहली बार लॉकडाउन की घोषणा करने के साथ ही सरकार ने लोगों को जहां हैं वहीं पर रहने का आह्वान किया था, लेकिन धीरे धीरे लॉकडाउन की समय सीमा बढ़ने से लोग अब अपने गांव से दूर बड़ी संख्या में घर लौटने लगे हैं. लॉकडाउन के शुरूआती दिनों में लॉकडाउन खुलते ही घर लौटने की योजना मजदूरों ने बनाई थी, लेकिन इतने दिन बीत जाने पर अब इन मजदूरों का हौसला जवाब देने लगा है.

राठोड़ से किया संपर्क
जिले के मजदूरों ने घाटंजी तहसील के सामाजिक कार्यकर्ता सहदेव राठोड़ से संपर्क कर घर वापसी की गुहार लगाई है. बीते 2 माह से वे आंध्र प्रदेश के गुंटूर जिले में फंसे हैं. उनके पास का राशन पानी अब खत्म हो जाने से उन्हें काफी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है. उन्होंने अपने जिले में लौट आने के लिए प्रशासन से गुहार लगाई. सफर के लिए पास बनाने का भी प्रयास इन लोगों ने किया, लेकिन आज तक उन्हें पास नहीं मिल पाया है. जिससे अब उनकी मुश्किलें और बढ़ गई हैं. इनमें से 8 मजदूर आर्णी तहसील के बोरगांवपुंजी के हैं. 3 मजदूर घाटंजी के तथा अन्य 4 मजदूर यवतमाल तहसील के होने की जानकारी है.