Without Mask Action

    यवतमाल. यवतमाल शहर में कोरोना महामारी के दुबारा पैर पसार लेने से जिला प्रशासन, स्वास्थ्य विभाग और आम नागरिक सभी फिर से सहमे हुए हैं. प्रशासन ने प्रतिबंधात्मक उपायों के तहत कोरोना की रोकथाम के लिए उपाय करने शुरु किए हैं. तो दूसरी ओर कोरोना महामारी पर मात करने के लिए अब नागरिक भी सतर्क नजर आ रहे हैं. सोशल डिस्टेंसिंग का पालन, सैनिटायजर का उपयोग और सार्वजनिक स्थानों पर मास्क लगाना जरूरी किए जाने से आम नागरिक भी अब इसका पालन करते दिख रहे हैं.

    22 फरवरी से शहर में लाकडाउन के बाद मार्केट बंद होने से पूर्व सार्वजनिक स्थानों पर अधिकांश नागरिक चेहरा ढंके हुए या फिर विविध प्रकार के मास्क लगाकर ही घूमते नजर आए. बीते कुछ दिनों में कोरोना संक्रमण के प्रभावित मरीजों की संख्या बढ़ने से प्रशासन ने मास्क लगाने का अनिवार्य किया है. जिससे सभी लोगों को कोरोना का प्रभाव कम होने तक सतर्कता बरतकर मास्क लगाने पर ध्यान देने की अपील जिला प्रशासन ने की है.

    जिलाधिकारी ने खुद लिया जायजा

    जिलाधिकारी ने लाकडाउन की घोषणा के बाद सार्वजनिक स्थानों पर मास्क पहनकर ही लोगों को बाहर निकलने की अपील की है. इसके लिए समय समय पर निर्देश भी दिए जा रहे हैं. शाम को जिलाधिकारी एम. देवेन्द्र सिंह भी खुद होकर अपने प्रशासनिक अमले के साथ सार्वजनिक स्थानों पर नागरिक मास्क पहन रहे हैं या नहीं इस बात का जायजा लेने मार्केट में पहुंचे. इस समय उन्होने स्थानीय बस स्थानक चौक पर खड़े होकर आवाजाही कर रहे नागरिकों और वाहनचालकों को रोककर मास्क पहनने और जरूरी उपाय योजनाएं करने के निर्देश दिए. साथ ही अनेक लोगों को मास्क न पहनने पर फटकार लगाते हुए यातायात विभाग के कर्मचारियों को निर्देश दिया कि सार्वजनिक स्थलों पर मास्क न पहनने वाले नागरिकों को जुर्माना लगाए.