पुसद उपजिला अस्पताल में मानसिक स्वास्थ सप्ताह

पुसद. विश्व मानसिक स्वास्थ्य दिवस के अवसर पर 14 अक्तूबर को उपजिला अस्पताल, पुसद में मानसिक स्वास्थ्य सप्ताह का आयोजन किया गया था. मानसिक स्वास्थ्य सप्ताह के मुख्य मार्गदर्शक के रूप में जिला सर्जन डा. तरंगतुषार वारे तो मुख्य अतिथि के रूप में उपजिला अस्पताल के चिकित्सा अधिक्षक डा. फुफाटे उपस्थित थे. इस अवसर पर डा. वारे ने कहा कि, ‘मानसिक स्वास्थ्य समय की आवश्यकता है और सभी को इस पर विशेष ध्यान देने की आवश्यकता है’. जैसे शरीर में दर्द होता है, वैसे ही मन में भी दर्द होता है. लेकिन आम लोगों की कपटी लोगों द्वारा धोखा दिया जाता है क्योंकि वे नहीं जानते कि कहां जाना है और किससे मदद लेनी है नतीजतन, इस प्रकार का अंधविश्वास जमीन पकड रहा है.

विश्व स्वास्थ्य संगठन ने भी घोषणा की है कि निकट भविष्य में अवसाद एक गंभीर मानसिक बीमारी बनी रहेगी. आगे बोलते हुए, डा. वारे ने कहा कि कोरोना  अवधि में कई लोगों के मानसिक स्वास्थ्य पर नकारात्मक प्रभाव दिखाई दे रहा है. इसलिए समाज में मानसिक बिमारी के बारे में गलत धारणाओं को दूर करने और मानसिक स्वास्थ्य के महत्व पर जोर देने के लिए इस तरह सूचना सत्रों का आयोजन करना बहुत महत्वपूर्ण है.

पुसद ग्रामीण अस्पताल के चिकित्सा अधिक्षक डा. फुफाटे ने भी यह कहा कि मानसिक स्वास्थ्य अत्यंत महत्वपूर्ण है. उपस्थित चिकित्सकों ने पुसद के कोविड केअर सेंटर का दौरा किया और कोरोना पाजिटिव मरीजों को समुपदेशन किया. 

कार्यक्रम में मानसिक स्वास्थ्य कार्यक्रम, जिला एड‍्स नियंत्रण व प्रतिबंध कक्ष, राष्ट्रीय तंबाकू नियंत्रण कार्यक्रम आणी राष्ट्रीय संक्रामक रोग नियंत्रण कार्यक्रम,  जिला शल्य चिकित्सक कार्यालय की टीम ने हिस्सा लिया. इस कार्यक्रम में अस्पताल के अन्य चिकित्सा अधिकारियों, नर्सों, नर्सिंग कालेज के छात्रों के साथ अस्पताल में आनेवाले मरीज उपस्थित थे.