पाठ्यपुस्तकों का पुन: उपयोग करने का आदेश

यवतमाल. स्कूली बच्चों को पर्यावरण विषय के माध्यम से पर्यावरण संरक्षण सिखाया जाता है. बच्चों को पर्यावरण को बचाने, पुन: उपयोग, पुन: उपयोग की अवधारणा सिखाई जाती है. इस अवधारणा के भाग के रूप में, प्रायोगिक आधार पर पाठ्य पुस्तकों के पुन: उपयोग की योजना को लागू करने का निर्णय लिया गया है. इसलिए, वर्ष 2019-20 और 2020-21 के छात्रों के लिए अच्छी स्थिति में पाठ्यपुस्तकों को संकलित करने की अपील की गई है.

समग्र शिक्षा के तहत, कक्षा 1 से 8 वीं तक के छात्रों को हर साल पाठ्य पुस्तकें मुफ्त में वितरित की जाती हैं. सरकार इन पाठ्यपुस्तकों के लिए करोड़ों रुपये खर्च करती है. अधिकांश छात्र पाठ्यपुस्तकों की ठीक से देखभाल करते हैं. ऐसी पाठ्यपुस्तकों को एकत्रित करना और उनका पुन: उपयोग करना रीसायकल करना संभव बनाता है. इसका पुन: उपयोग करने से बहुत सारे कागज को बचाने में मदद मिलेगी. इसे देखते हुए, सरकार ने शैक्षणिक वर्ष 2021 में प्रायोगिक आधार पर पाठ्य पुस्तकों के पुन: उपयोग के लिए एक परियोजना को लागू करने का निर्णय लिया है. यह अपील की गई है कि वर्ष 2019-20 और 2020-21 में उपयोग की जाने वाली पाठ्यपुस्तकों को इस योजना के माध्यम से स्कूल में प्रस्तुत किया जाए.

यह योजना छात्रों को पाठ्य पुस्तकों को अच्छी स्थिति में रखने की आदत डालने में मदद कर सकती है. प्राथमिक स्कूलों को अभी तक कोविड की पृष्ठभूमि में शुरू नहीं किया गया है. ऐसी स्थिति में, यह सुझाव दिया जाता है कि इस योजना को स्कूल शुरू होने के बाद लागू किया जाना चाहिए, पुस्तकों का वर्गीकरण स्कूली स्तर पर पाठ्य पुस्तकों की प्राप्ति के बाद किया जाना चाहिए और इसकी रिपोर्ट प्राथमिक शिक्षा अधिकारी को भेजी जानी चाहिए. इस निर्णय के अनुसार, जिले में 16 पंचायत समिति के समूह शिक्षा अधिकारियों को एक पत्र भेजा गया है और स्कूल स्तर पर इस तरह के निर्देश देने के लिए एक आदेश जारी किया गया है. यह योजना छात्रों को पाठ्यपुस्तकों को अच्छी तरह से रखने की आदत डालने में मदद करेगी. बहुत सारे कागज़ बचाना भी संभव है.

पुनर्चक्रण शिक्षा पर लाखों की बचत करेगा, जिले को पाठ्य पुस्तकों की कीमत के लिए बलभारती को लाखों रुपये का भुगतान करना पड़ता है. अमरावती से स्कूल स्तर तक पाठ्यपुस्तकें लाने से लेकर बड़ी राशि खर्च होती है. एक पाठ्यपुस्तक को पुनर्चक्रित करने से लाखों रुपये बचेंगे.