सोयाबीन की कटाई पर बारिश का संकट

यवतमाल. सोयाबीन की कटाई का मौसम शुरू हो गया है. ऐसे में आसमान में बादल छाए रहने और बीच-बीच में बारिश के कारण किसान चिंतित हैं. खेत में कपास की बोड खिले है. कुछ खेत में कपास चुनने का कार्य शुरू हो गया है. ऐसे में बदरीले मौसम और बारिश का माहौल बनने से किसानों की चिता और बढा दी है. सोयाबीन की फसल कटाई के लिए ग्रामीण क्षेत्रों से दूसरे प्रांत के मजदूर पहुंचे है. उन्होंने मजदूरी बढा रही है. वर्तमान में यह दर 2200 से 2400 रुपए प्रति बैग है. पिछले साल यह दर 1700 से 2000 रुपए था. सोयाबीन के ढेर लगाने के लिए अलग से दो मजदूर रखे जाते है. उन्हें 300 से 400 रुपए मजदूरी देनी पडती है. 

इसके अलावा, रोजदार सोयाबीन कटाई करनेवाली महिला मजदूर को 200 रुपए तो पुरुष मजदूर को 300 से 350 रुपए मजदूरी मिलते है. सुबह 6 से 12 का समय तय है. लेकिन बुधवार को मौसम विभाग ने बारिश का अनुमान जताने से किसानों को सोयाबीन की कटाई रोकनी पडी. बारिश की संभावना को देखते हुए खेतमजदूर काम पर जाने से कतराते है. खेत में कटाई कर लगाए ढेर को ढकने की मशक्कत करनी पड रही है. हालांकि सोयाबीन को निकालने की जरूरत है, लेकिन कम पैदावार से किसान के हाथ इस नकदी फसल से ज्यादा राशि नहीं मिलेगी. जिससे किसानों की लागत भी निकलना मुश्किल दिख रहा है. किसानों की मुसीबतें कम होने का नाम ही ले रही है. किसी ना किसी कारण से किसानों को नुकसान का सामना करना पड रहा है.