Yavatmal ZP

    यवतमाल. जिला परिषद अध्यक्ष कालिन्दा यशवंतराव पवार की अध्यक्षता में पंस महागांव अंतर्गत तहसील कार्यालय के सभागृह में जिप पदाधिकारियों, पंस अध्यक्ष, उपसभापति, जिप और पंस सदस्यों के उपस्थिति में समीक्षा बैठक का आयोजन किया गया है. ग्रापं की बैठक में वाकोड़ी के ग्रामसेवक मौजूद नहीं रहते हैं. अक्सर वह ग्रापं से नदारद रहते हैं. ऐसी शिकायत सभा में की गई. जिसके बाद जिप अध्यक्ष  कालिन्दा पवार ने समूह विकास अधिकारी को शिकायत की जांच कर संबंधित ग्राम सेवकों के खिलाफ कार्रवाई करने का निर्देश दिया. 

    वडद के 100% नागरिकों को टीका 

    स्वास्थ्य विभाग का निरीक्षण करते हुए तहसील स्वास्थ्य अधिकारी ने कहा कि, महागांव तहसील में वडद के 100% नागरिकों को टीका लगाया गया है. पंचायत विभाग ने ग्राम पंचायत से कर वसूली की समीक्षा की. जिसमे कुछ गड़बड़ी दिखी. समूह विकास अधिकारी को ग्रापं कर वसूली के संबंध में वस्तुनिष्ठ रिपोर्ट प्रस्तुत करने के निर्देश दिए.

    स्वच्छ भारत मिशन के तहत ग्रामीण क्षेत्रों में महिलाओं को सैनिटरी नैपकिन के लिए प्रति ग्राम पंचायत एक सैनिटरी नैपकिन इंसीनरेटर मशीन जिला स्तर पर से प्रदान की गई है.बैठक में बताया गया कि मशीन चालू नहीं है. मशीन की आपूर्ति करते हुए सरपंच जिप और पंस सदस्यों को विश्वास में नहीं लिया गया. समूह विकास अधिकारी को मामले की जांच कर रिपोर्ट सौंपने का निर्देश दिया. 

    लापरवाह कर्मियों पर होगी सख्त कार्रवाई

    मनरेगा विभाग की समीक्षा करते हुए व्यक्तिगत योजनाओं के लाभ की स्वीकृति के साथ-साथ उनके कार्य पूर्ण होने तक यदि कोई संबंधित किसानों को परेशान कर रहा है, तो ऐसे कर्मचारियों को बख्शा नहीं जाएगा. उन्होंने सुझाव दिया कि उनके खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी.

    साथ ही निर्माण, आवास, बाल विकास, स्वास्थ्य, जलापूर्ति, शिक्षा आदि की विस्तार से समीक्षा की गई. निर्माण एवं वित्त अध्यक्ष  रामभाऊ देवसरकर, शिक्षा एवं स्वास्थ्य अध्यक्ष श्रीधर मोहोड, पंचायत समिति अध्यक्ष अनीता चव्हाण, अशोक जाधव, वर्षाताई भवरे,विलास भुसारे, उपाध्यक्ष रामचंद्र ताम्बाखे, पंचायत समिति सदस्य देशमुख, गजानन कांबले, अर्जुन राठोड़, उप मुख्य कार्यपालन अधिकारी महिला एवं बाल कल्याण  विशाल जाधव, जिला स्वास्थ्य अधिकारी डा. पी.एस. चव्हाण, कार्यपालक अभियंता निर्माण व सिंचाई भूमेश दमाहे, समूह विकास अधिकारी मयूर अदेलवाड़ के साथ विभाग पंचायत समिति स्तर पर विभिन्न विभागों के प्रमुख, अधिकारी और कर्मचारी उपस्थित थे.