Citizens troubled by bad settlements, mud, dirt in division 3

नांदगांव खंडेश्वर: चार वर्ष पूर्व सांसद दत्तक ग्राम योजना द्वारा केंद्रीय रेलवेमंत्री पियुष गोयल ने गोद लिए टिमटाला का 100 वर्ष बाद कायाकल्प होनेवाला है. इतिहास कालीन लुप्त हुए इस गांव को दुबारा विकास होते लोग देख पाएंगे. हालांकि इस गांव को 4 वर्ष पूर्व ही पूर्व केंद्रीय रेलवे मंत्री गोयल ने गोद लिया था. लेकिन कई वर्षों बाद भी इस गांव का विकास नहीं होने से गांववासियों ने ही लगातार आंदोलन, निवेदन और पत्रव्यवहार कर विकास का मार्ग खोल दिया. 

वर्ष 2016 में गोद लिया था गांव 

कन्याकुमार शिलास्मारक के शिल्पकार एकनाथ रानड़े ने टीमटाला का नाम देश के कोने कोने तक पहुंचाया. गांव में स्वास्थ्य सेवा, सड़क, पाणी, बिजली, रोजगार निर्मिती नहीं रहने से टिमटाला गांव की अवस्था कापी दयनीय हो चुकी थी. कई वर्षों की इस समस्या पर उपाय के तौर पर गांव के छात्र सुरज सहारे ने गांव की कुछ वरिष्ठ लोगों से मिलकर इस संदर्भ में शिकायते, ज्ञापन देकर गांव का नाम दुबारा प्रकाश में लाया.

जिसके चलते वर्ष 2016 में भाजपा ने सांसद दत्तक ग्राम योजना के माध्यम से केंद्रीय रेलवे मंत्री पियुष गोयल ने यह गांव गोद लिया और फिर एक बार गांव का नाम रोशन हुआ. एक माह के भीतर ही गांव में विकास कार्यों की सूची तैयार कर गोयल ने काम के आदेश संबंधित प्रशासन को दिए. प्रशासन की ओर से भी काम मंजूर किए गए लेकिन प्रत्यक्ष शुरूआत नहीं हो पायी. जिसके कारण गांववासियों को दुबारा आंदोलन करने पर मजबूर होना पड़ा. 

विकास ले रहा गति 

गांववासियों की मेहनत का नतीजा अब गांव में दिखाई देने लगा है. प्रशासने ने भी मंत्री के प्रतिसाद को हुंकार देते हुए प्रत्यक्ष काम को शुरुआत की है. टीमटाला में ग्राम सचिवालय का निर्माण कार्य पूर्ण हो चुका है. इसके अलावा लाखों रुपए किमत का युटीलीटी सेंटर भी निर्माण किया गया. बैंक, स्वास्थ्य व राजस्व संदर्भ के काम एक ही जगह से किए जाएंगे. छात्रों के लिए स्वतंत्र अभ्यासिका का प्रस्ताव भी दिया गया. शादी,जन्मदिन आदि के लिए सभागृह की स्थापना की गई. गांव अंतर्गत सड़के भी तैयार की जा रही है. विशेष बात यह है कि सैकड़ों हेक्टेयर खेत जमीन पर लघुसिंचाई प्रकल्प का काम तेज गति से हो रहा है. इस बांध का काम पूर्ण होने पर एकनाथ रानड़े का र्मारक तथा रउनके विचारों का स्मृतिवन निर्माण करने का प्रस्ताव तैयार किया जाएगा.