Market Parvana incurs loss of 2.50 crores, losses in Corona

    अमरावती. महानगरपालिका की मंगलवार को हुई आमसभा में बुनियादी सेवा सुविधाओं की 5 करोड रुपए की निधि को लेकर जबरदस्त हंगामा हुआ. तत्कालीन देवेंद्र फडणवीस सरकार द्वारा मंजूर काम महाविकास आघाडी द्वारा बदलाए जाने से गुस्साए भाजपा सदस्यों ने सभा में आग उगली. बडनेरा निर्वाचन क्षेत्र के कार्यों के लिए मंजूर निधी महाविकास आघाडी सरकार ने अमरावती विधानसभा क्षेत्र में डाइवर्ट किए जाने से राजनीतिक तूफान आने के संकेत है.

    बडनेरा निर्वाचन क्षेत्र के कार्यों का समावेश

    महानगरपालिका क्षेत्र में बुनियादी सेवा सुविधाओं के विकास के लिए लेखा शीर्षनुसार तत्कालीन फडणवीस सरकार ने 29 जुलाई, 2019 को 5 करोड़ रुपये की निधि मंजूर की थी. इस निधि से प्रशांत नगर चौक से भगत सिंह चौक (फ्रेज़रपुरा) तक सड़क का निर्माण करना, बारीपुरा बडनेरा से नाले तक सड़क का कांक्रीटीकरण, जुनी बस्ती बडनेरा में एक बगीचा बनाना, बडनेरा क्षेत्र में सुरक्षा के लिए सीसीटीवी कैमरें लगाना, समर्थ स्कूल से रवि नगर रोड का कांक्रिटिकरण, म्हाडा कॉलोनी (साईं नगर) प्रभाग नंबर 19 में सड़कों का डामरीकरण आदि कार्य शामिल है. निधि मंजूर होने के बाद इन कार्यों का भूमिपूजन भी हुआ था.

    आघाडी ने बदले फडणवीस सरकार के काम

    तत्कालीन फडवणीस सरकार ने मंजूर किए मुलभूत सुविधा के काम महाविकास आघाडी सरकार ने 26 फरवरी 2021 व 5 मार्च 2021 को आदेश निर्गमित कर बदले है. आघाडी सरकार के नए आदेश में बडनेरा निर्वाचन क्षेत्र के काम रद्द कर अमरावती निर्वाचन क्षेत्र के कुल  25 विविध विकास कामों का समावेश है. इसलिए, 5 करोड़ रुपये के विकास निधि को डाइवर्ट किए जाने से शहर की राजनीति गरमा गई है. आमसभा में भाजपा सभागृह नेता तुषार भारतीय ने आघाडी सरकार की जमकर खिंचाई की.

    अब तीनों का दावा

    विधानसभा चुनाव से पहले मुलभूत सुविधा लेखाशिर्ष के तहत 5 करोड की निधी मंजूर किए जाने का दावा भाजपा नेता तुषार भारतीय ने किया था. साथ ही बडनेरा के विधायक रवि राणा ने भी तत्कालीन मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस से यह निधी मंजूर कराने का दावा किया था. लेकिन अब अमरावती निर्वाचन क्षेत्र के लिए निधी डाइवर्ट करने से विधायक सुलभा खोडके ने भी इस विवाद में शामिल हुई है.