सप्ताह में 1 दिन जलापूर्ती, पुसलावासी कर रहे त्राहि-त्राहि

वरुड. इस वर्ष जिला सहित तहसील में भी रिकार्ड बारिश हुई है. तहसील में तो बारिश ने 10 वर्षों का रिकार्ड तोडा है. लेकिन इसके बावजूद तहसील के पुसला गांववासी पेजयल के लिए तरस रहे है. गांव में  इन दिनों सप्ताह में 1 दिन पेयजलापूर्ति की जा रही है. वह भी अपर्याप्त जिससे लोगों में त्राहि-त्राहि मची है. ग्राम सेवक व प्रशासक की अकार्यक्षमता के चलते नागरिकों के बुरे हाल है. ऐसा आरोप नागरिक लगा रहे है. 

ग्रापं पर ठोकेंगे ताला

जिला परिषद उपसभापति का गांव होने के बावजूद समस्याएं यहां  आसमान छु रही है. भर बारिश के मौसम में नागरिकों को पेयजल की तलाश में भटकना पड़ रहा है. जिससे गांव वासी परेशान है. कोरना के चलते ग्राम पंचायत के चुनाव स्थगित हुए है. जिससे ग्रापं पर प्रशासकों की नियुक्ति की गई है. लेकिन प्रशासक गांव की समस्याओं की ओर लापरवाह है. पेयजलापूर्ति करने वाली पाईपलाईन फुटी होने से गांव में सप्ताह में 1 बार होने वाली जलापूर्ति भी दूषित है. इसकी शिकायत गुट विकास अधिकारी से करते हुए गांव वासियों ने अब ग्रापं पर तालाठोकों आंदोलन करने की चेतावनी दी है. 

अधिकारियों के तबादले की मांग 

नागरिकों का यह भी आरोप है कि प्रशसक व ग्रामविकास अधिकारी कार्यालय में यदा कदा ही आते है. उनका कहना कि गांव में अन्य समस्याओं का भी अंबार है बारिश का पानी बहने की पर्याप्त व्यवस्था न होने से पानी लोगों के घरों में रिस रहा है. सफाई व्यवस्था चरमरा रही है. दोनों अधिकारियों का तबादला करनी की मांग भी नागरिकों ने गुट विकास अधिकारी से की है.