Indian students contributed USD 7.6 billion to US economy last year
File Photo

    अमरावती. राज्य में कोरोना की दूसरी लहर का असर भले ही कम हुआ है, लेकिन कोरोना के नए रूप डेल्टा प्लस के लिए जहां राज्य सरकार और प्रशासन ने नए नियमों के साथ सख्ती बरतना शुरू कर दी है. वहीं दूसरी ओर शिवाजी कला-वाणिज्य महाविद्यालय मानो कोरोना के नियम ही भूल गया है.

    परीक्षा फार्म अदा करने के लिए बुधवार को महाविद्यालय में रिकार्ड तोड़ भीड़ जमा हुई. विशेष बात यह है कि अधिकांश छात्रों ने मास्क का इस्तेमाल भी नहीं किया. बावजूद इसके महाविद्यालय व्यवस्थापन की ओर से नियोजन को लेकर कोई भी तत्परता नहीं दिखाई गई. 

    मास्क का उल्लंघन, सोशल डिस्टेंसिंग की धज्जियां 

    संत गाडगे बाबा अमरावती विद्यापीठ ने 28 जून को महाविद्यालयों को 5 जुलाई तक छात्रों से ग्रीष्मकालीन परीक्षा 2021 के लिए आवेदन भरने के आदेश दिए थे. जिसके कारण शिवाजी कला व वाणिज्य महाविद्यालय ने परीक्षा फार्म भरने के लिए सभी छात्रों को मैसेज किए.

    परीक्षा फार्म भरने के लिए कम समय रहने से महाविद्यालय के प्रांगण में बुधवार को पहले ही दिन रिकार्ड तोड़ भीड़ जमा हो गई. एक ही दिन इतनी बड़ी संख्या में भीड़ जमा होने से नियोजन शून्य कामकाज के कारण कोरोना के नियमों का उल्लंघन होता दिखाई दिया. परीक्षा फॉर्म अदा करने के लिए समय कम रहने से महाविद्यालय ने प्रत्येक सेमिस्टर के छात्रों अलग अलग दिन देना था. लेकिन एक ही दिन के कारण सोशल डिस्टेसिंग और मास्क का इस्तेमाल नहीं किए जाने से नियमों की मानो धज्जियां उड़ गई.