1.20 करोड़ से बन रही सायन्सकोर को सुरक्षा दिवार

  • पूर्व पालकमंत्री डा. देशमुख ने बनाया था दबाव

अमरावती. शहर के सबसे बडे खुले प्रांगण सायन्सकोर की बदहाली जल्द ही दूर होनेवाली है. पूर्व पालकमंत्री डा. सुनील देशमुख के प्रयासों से 1.20 करोड की निधि इस प्रांगण के सौंदर्यीकरण व बदहाली दूर करने जिला नियोजन से खिंच लाये थे. इस निधि से सुरक्षा दिवार के साथ ही मैदान में हाइमास्ट लाइट, मैदान का सपाटीकरण, ट्रैकिंग ड्रेनेज आदि काम किये जायेंगे. 

रेप, मर्डर के साथ बना था कचरा घर

सायन्सकोर शहर का सबसे बडा और राजनितिक सभाओं के लिए विशेष रुप से प्रसिध्द मैदान है. चुनाव के दौरान इसी मैदान पर विशाल सभाओं का आयोजन किया जाता है. लेकिन कई वर्षों से इस मैदान की ओर जिला परिषद की अनदेखी होने से कार्यक्रम आयोजित करने के बाद आयोजनकर्ता भी सफाई नहीं करते. इतना ही नहीं तो महानगरपालिका के कर्मचारी भी यहीं पर कचरा उंडेल देते. जिसके चलते यह कचरा घर बन गया था. रात के दौरान अंधेरा होने का फायदा उठाकर रेप, मर्डर जैसी घटनाएं भी हुई. बावजूद इसके कोई भी एक्शन नहीं लिया गया. आये दिन यहां पर पारधियों का जमावडा रहता है. परिणामत: यहां आयोजित होनेवाले कार्यक्रमों में भी बाधाएं निर्माण होती थी. 

एक वर्ष बाद मिली गति

पूर्व विधायक सुनील देशमुख ने मई 2019 में डीपीटीसी इस मैदान को विकसित करने हेतु निधि खिंच लायी थी. तब जून माह में ही टेंडर प्रोसेस करने का आश्वासन भी दिया. लेकिन विधानसभा चुनाव के दौरान हुई आचारसंहिता के चलते इस मैदान के विकासकार्य का कामकाज प्रलंबित रह गया जिसे एक वर्ष बाद गति मिली है. 

यह होंगे विकास कार्य 

-यह मैदान 1 हजार 30 मीटर तक फैला है. जिसमें रेस्ट हाउस की साइडवाली के साथ ही कई जगहों पर यह दिवार टूट चुकी है. यह पूर्ण 110 मीटर की दिवार के साथ दिवारों पर तार की जाली लगाई जायेगी जिससे दिवार लांघकर भी कोई भीतर प्रवेश नहीं कर पायेंगे. 

-मैदान की 2 मीटर उंचाइवाले 3 बडे बडे गेट लगाये जायेंगे. यह गेट ऐसे होंगे की जिससे मैदान के भीतर का बाहरी लोगों को दिखाई नहीं देगा. गेट पर सिक्युरिटी भी तैनात किया जायेंगे. 

– मैदान में 4 से 5 हाइमास्क लाइट के साथ प्रत्येक गेट पर सीसीटीवी कैमेरा लगाने जायेंगे. जिससे रात के दौरान भी संपूर्ण मैदान में उजियाला रहेगा.