Gang busting Remdesivir Injection busted, 7 arrested

    औरंगाबाद. कोरोना महामारी (Corona Epidemic) के इस मुश्किल भरे संकट में जरुरतमंद मरीजों को ढूंढकर रेमडेसिविर का एक इंजेक्शन (Remdesivir Injection) हजारों रुपए में बेचनेवाले गिरोह (Gang) का पर्दाफाश करने में औरंगाबाद क्राइम ब्रांच पुलिस (Aurangabad Crime Branch Police) कामयाब हुई है। पुलिस ने इस गिरोह के 7 सदस्यों को गिरफ्तार (Arrest) कर उनसे 5 रेमडेसिविर इंजेक्शन के अलावा एक कार ऐसी करीब 6 लाख रुपए की सामग्री जप्त की।

    शहर क्राइम ब्रांच के पीआई अविनाश आघाव ने बताया कि हमें सूचना मिली थी कि जालना जिले का एक गिरोह शहर के कुछ लोगों की मदद से रेमडेसिविर इंजेक्शन की कालाबाजारी कर रही है। गिरोह के स्थानीय सदस्य जरुरतमंद मरीजों के रिश्तदारों को खोजकर वे एक इंजेक्शन 20 हजार हजार रुपए में बेच रहे हैं। इसी जानकारी पर पुलिस ने सारी जानकारी हासिल कर अपने मुखबिर के माध्यम से गिरोह के एक सदस्य से रेमडेसिविर इंजेक्शन खरीदने का प्लान बनाया। उसके तहत गिरोह का सदस्य 28 वर्षीय दिनेश कान्हु नवगिरे इंजेक्शन बेचने पहुंचा। तभी पहले से जाल बिछाए क्राइम ब्रांच पुलिस ने दिनेश नवगिरे को गिरफ्तार किया।

    6 लाख रुपए की सामग्री जप्त

    पुलिस ने नवगिरे की जानकारी पर रेमडेसिविर इंजेक्शन की कालाबाजारी करनेवाले टोली के अन्य सदस्य 32 वर्षीय संदिप सुखदेव रगडे, नरेन्द्र मुरलीधकर साबले, प्रवीण शिवनाथ बोर्ड, साईनाथ अन्ना वाहुल, रवि रोहिदास डोंगरे तथा अफरोज एकबाल खान को गिरफ्तार किया। पुलिस ने उनसे मॉयलॉन कंपनी के 3 हजार 400 रुपए के 5 रेमडेसिविर इंजेक्शन, एक कार ऐसी करीब 6 लाख रुपए की सामग्री जप्त की। यह कार्रवाई सीपी डॉ. निखिल गुप्ता, डीसीपी निकेश खाटमोडे पाटिल, मिना मकवाना, एसीपी रविन्द्र सोलोखे, पीआई अविनाश आघाव के मार्गदर्शन में एपीआई मनोज शिंदे, संतोष सोनवने, चन्द्रकांत गवली, शिवाजी झिने, भगवान शिलोटे, राजेन्द्र सांलुके, रितेश जाधव, विशाल पाटिल, आनंद वाहुल, प्रभाकर राउत, संदिप सानप, नितिन देशमुख ने पूरी की।