टीईटी परीक्षा में सफल उम्मीदवारों की भर्ती जल्द करें

  • अक्षय खेडकर की शिक्षा मंत्री वर्षा गायकवाड से मांग

औरंगाबाद. 7 वर्ष पूर्व शिक्षक पात्रता यानी टीईटी परीक्षा ली गई थी. परीक्षा में 6 लाख 19 हजार 391 उम्मीदवारों ने हिस्सा लिया था. उसमें 31 हजार 72 उम्मीदवार सफल हुए. सफल हुए इन उम्मीदवारों की आगामी 2 माह में नियमानुसार टीईटी की वैधता समाप्त हो रही है. ऐसे में सरकार तत्काल टीईटी परीक्षा में सफल हुए उम्मीदवारों की भर्ती करें. यह मांग युवा सेना के शहर सचिव और कामगार मदद केन्द्र के अध्यक्ष अक्षय खेडकर ने राज्य की शिक्षा मंत्री वर्षा गायकवाड़ से की है.

ध्यान नहीं दिया तो आंदोलन

शिक्षा का अधिकार कानून के अनुसार, शिक्षक होने के लिए टीईटी अनिवार्य है. इसलिए राष्ट्रीय शिक्षण प्रशिक्षण परिषद ने 2011 में इस परीक्षा के बारे में परिपत्रक जारी किया था. उसके बाद राज्य में 2013 में प्रथम टीईटी परीक्षा ली गई थी. इस परीक्षा के आयोजन के बाद शिक्षा क्षेत्र के लाखों उम्मीदवारों ने टीईटी परीक्षा दी थी. परीक्षा में सफल हुए 31 हजार उम्मीदवारों को 7 साल में नौकरी न मिल पाए उम्मीदवारों की संख्या बहुत कम है. ऐसे में जब प्रथम साल टीईटी सफल हुए उम्मीदवारों को बड़े पैमाने पर भर्ती की उत्सुकता निर्माण हुई थी. टीईटी परीक्षा में सफल होकर 7 साल में गुजरने के बावजूद उन्हें नौकेरी न मिलने के कारण इन उम्मीदवारों में निराशा फैली है. इस पर शिक्षा मंत्रालय विशेष लक्ष्य केन्द्रीत कर जल्द से जल्द टीईटी परीक्षा में सफल हुए 31 हजार स्थान भरें अथवा पात्र उम्मीदवारों की वैधता बढ़ाकर देने की मांग कामगार केन्द्र के अध्यक्ष अक्षय खेडकर ने राज्य की शिक्षा मंत्री वर्षा गायकवाड़ से की. अंत में उन्होंने चेताया कि सरकार ने इस मांग पर ध्यान नहीं किया तो आंदोलन किया जाएगा.