Sardar Vallabhbhai Patel big contribution in making a united India

    औरंगाबाद. हिंदुस्थान को अखंड भारत करने के  लिए सरदार वल्लभभाई पटेल ने कठोर परिश्रम किए। जिसके चलते आज हम सब अखंड भारत में रह रहे है। यह प्रतिपादन राज्य के उद्योगमंत्री तथा जिले के पालकमंत्री सुभाष देसाई ने यहां किया। जिले के पूर्व सांसद चन्द्रकांत खैरे के निधि से शहागंज के चमन में स्थापित सरदार वल्लभभाई पटेल की पुरानी प्रतिमा निकालकर उसके स्थान पर 10 फीट ऊंचाई व करीब 1 टन वजन वाली  ब्रांज धातु (‍Bronze Metal) की नई प्रतिमा लगाई गई। नई सरदार वल्लभभाई पटेल के प्रतिमा का अनावरण जिले के पालकमंत्री सुभाष देसाई के हाथों किया गया। उसके बाद अपने विचार में देसाई ने यह बात कहीं। 

    इस अवसर पर प्रमुख रुप से पूर्व सांसद चन्द्रकांत खैरे, विधायक अंबादास दानवे, विधायक हरिभाउ बागडे, प्रदीप जैसवाल, अतुल सावे, पूर्व मेयर नंदकुमार घोडेले, पूर्व डिप्टी मेयर  राजेन्द्र जंजाल, पूर्व नगरसेवक राजू  वैद्य, सचिन खैरे,ऋषिकेश खैरे,मनपा आयुक्त आस्तिककुमार पांडेय, जिलाधिकारी सुनील चव्हाण, शहर अभियंता सखाराम पानझडे, उपायुक्त अपर्णा थेटे, स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. नीता पाडलकर व अन्य अधिकारी उपस्थित थे। अपने विचार में देसाई ने पटेल के पूर्णाकृति प्रतिमा के स्थापना के लिए पूर्व सांसद चन्द्रकांत खैरे द्वारा निधि उपलब्ध कराने को लेकर  आभार माना।

    जनता की मदद से दूसरी लहर पर जल्द काबू पा सका प्रशासन 

    पालकमंत्री देसाई ने अपने विचार में कहा कि हम सब गत सवा साल से कोरोना महामारी का मुकाबला कर रहे है। कोरोना की दूसरी लहर फैलने के बाद शहरवासियों ने प्रशासन द्वारा जारी किए निर्देशों का सख्ती से पालन किया। यही कारण है कि प्रशासन दूसरी लहर  पर जल्द काबू पाने में कामयाब रहा। उन्होंने औरंगाबाद वासियों से अपील की कि कोरोना की तीसरी लहर से बचने के लिए मास्क, सैनिटाइजर और सोशल डिस्टेन्सिंग का पालन करते रहें। उन्होंने प्रशासन द्वारा कोरोना महामारी पर काबू पाने के लिए किए उपाय योनाओं पर कलेक्टर सुनील चव्हाण, मनपा कमिश्नर आस्तिक कुमार पांडेय तथा सीपी डॉ. निखिल गुप्ता की खूब प्रशंसा की।उन्होंने विश्वास जताया कि आगामी दो साल में यह ऐतिहासिक शहर सुपर औरंगाबाद के नाम से जाना जाएगा। बता दें कि शहागंज चमन परिसर का सुशोभिकरण, संरक्षक दीवार और सौंदर्यीकरण इस काम के लिए तत्कालीन सांसद चन्द्रकांत खैरे  ने सांसद निधि से 40 लाख रुपए मंजूर किए थे। अनावरण समारोह की प्रस्तावना मनपा प्रशासक पांडये ने की। कार्यक्रम का सूत्र संचालन नीता पानसरे ने किया।