कोरोना पर नियंत्रण के लिए विशेषज्ञों की टास्क फोर्स गठित करें

– विधायक जैसवाल की सीएम ठाकरे से मांग

औरंगाबाद. औरंगाबाद जिले में कोरोना संक्रमितों की बढ़ती संख्या तथा उस महामारी से जान गंवानेवालों की संख्या में तेजी से इजाफा हो रहा है. बढ़ती संक्रमितों की संख्या तथा मृत्य दर पर ब्रेक लगाने के लिए राज्य सरकार तत्काल औरंगाबाद के लिए विशेषज्ञ डॉक्टरों का टास्क फोर्स गठित करें. यह मांग औरंगाबाद मध्य के शिवसेना विधायक प्रदीप जैसवाल ने मुख्यमंत्री उध्दव ठाकरे को एक ज्ञापन भेजकर की.

ज्ञापन में जैसवाल ने बताया कि मुंबई-पुणे को छोड़कर राज्य के अन्य जिलों में कोरोना पर बड़े पैमाने पर ब्रेक लगाने में  प्रशासन कामयाब हुआ है, लेकिन औरंगाबाद में गत 4 माह से मरीजों की संख्या तथा उससे पीडित मरीजों की मौत का ग्राफ तेजी से बढ़ रहा है. स्वास्थ्य विभाग संक्रमितों की संख्या कम करने तथा मृत्युदर कम करने में नाकाम साबित हुआ है. जिससे औरंगाबाद वासी चिंतित है. 

सीएम ठाकरे को भेजा ज्ञापन 

विधायक जैसवाल ने सीएम ठाकरे को भेजे ज्ञापन में बताया कि वर्तमान में औरंगाबाद कोरोना संक्रमित मरीजों का आंकड़ा 4 हजार पार कर चुका है. 1 जून से कोरोना ने ग्रामीण क्षेत्र में भी तेजी से पांव पसारने शुरु किए है. ग्रामीण क्षेत्र से हर दिन 50 से अधिक संक्रमित पाए जा रहे हैं. वहीं, घाटी अस्पताल में प्रतिदिन 10 से अधिक कोरोना बाधित मरीज अपनी जान गंवा रहे है. जिससे कोरोना से मरनेवाले मरीजों का आंकड़ा 200 पार कर चुका है. इस सभी भयावह परिस्थिति को कहीं ब्रेक लगे, इसको लेकर औरंगाबाद में तत्काल विशेषज्ञ डॉक्टरों का विशेष दल स्थापित करने की मांग जैसवाल ने सीएम ठाकरे से की. राज्य के अन्य शहरों में कोरोना पर मात देने में प्रशासन कामयाब हुआ है, फिर औरंगाबाद में ही कोरोना संक्रमण तेजी से क्यों फैल रहा है? इस पर भी जैसवाल ने सवाल उठाया.

अंत में जैसवाल ने ज्ञापन में उच्चस्तरीय डॉक्टरों की समिति तत्काल गठित कर कामकाज  शुरू करने, शहर के 3 आईपीएस अधिकारियों पर नियंत्रण के लिए और एक वरिष्ठ अधिकारी नियुक्त करने, ग्रामीण परिसर में विशेषज्ञ निरीक्षकों द्वारा दौरा कर उपाय योजना करने, शहर के लिए स्वतंत्र टास्क फोर्स गठित करने, संदिग्ध मरीजो को संस्थात्मक क्वारंटाइन सेंटर में रखने की मांग की.