Successful first day of strict lockdown in Aurangabad

    औरंगाबाद. बीते एक माह से शहर सहित जिले भर में कोरोना (Corona) का कहर पनप रहा है। कोरोना महामारी के कहर को ब्रेक लगाने जिला प्रशासन 11 मार्च से 4 अप्रैल तक लगाए आंशिक लॉकडाउन के दौरान विक एंड पर हर शनिवार और रविवार को सख्त लॉकडाउन (Strict Lockdown) लगाने के लिए निर्णय के प्रथम दिन लॉकडाउन (Lockdown) पूरी तरह कामयाब (Successful) रहा। कुछ इलाकों में लोग सड़कों पर घूमते नजर आए। शहर के मुख्य बाजारों में सन्नाटा छाया रहा। सख्त लॉकडाउन का प्रथम दिन कामयाब होने को लेकर शहर के पुलिस कमिश्नर डॉ. निखिल गुप्ता, मनपा प्रशासक आस्तिक कुमार पांडेय ने औरंगाबाद वासियों का आभार माना।

    शुक्रवार की देर रात से सख्त लॉकडाउन लगाने के बाद सुबह से ही शहर में सन्नाटा छाया हुआ था। हमारे संवाददाता ने शनिवार की सुबह शहर के प्रमुख बाजारों गुलमंडी, औरंगपुरा, सिटी चौक, पैठन गेट, रेलवे स्थानक परिसर, क्रांति चौक, जालना रोड, गारखेडा परिसर, बीड बाईपास रोड, टीवी सेंटर इलाका, सिडको-हडको परिसर का दौरा करने पर इन इलाकों के व्यापारियों ने अपनी दुकानें पूरी तरह बंद रखकर प्रशासन के बंद को पूरी तरह समर्थन दिया। शहर के कुछ इलाकों में वाहनों की आवाजाही जारी थी। 

    आला अधिकारियों ने किया दौरा

    पिछले वर्ष कोरोना ने कहर बरपाने के बाद पुलिस प्रशासन ने उठाए सख्त कदम के चलते शनिवार को नागरिकों ने सख्त लॉकडाउन को लेकर घरों से बाहर निकलना मुनासिब नहीं समझा। शहर के सीपी डॉ. निखिल गुप्ता, मनपा प्रशासक आस्तिक कुमार पांडेय, कलेक्टर सुनील चव्हाण ने शहर के कई इलाकों का दौरा कर सख्त लॉकडाउन का जायजा लिया। इस दौरे में उन्हें कुछ नागरिक सड़क पर नजर आने पर उन्होंने उन्हें सख्त ताकिद देते हुए घरों में रहने की सलाह दी। मनपा प्रशासक  पांडेय ने सड़क से गुजरनेवाले हर नागरिक को रोकने और टोकने पर पुलिस कर्मचारियों को जोर दिया। 

    जारी थी जरुरी सेवाएं 

    शहर में सख्त लॉकडाउन में स्वास्थ्य सेवाएं जिसमें अस्पताल और मेडिकल चालू रखने के लिए पूरी तरह छूट दी गई थी। जिसके चलते शहर के सभी मेडिकल और अस्पताल शुरु थे। इसके अलावा नागरिक खाने पीने के चीजें आसानी से खरीद सकें, इसलिए किराना की दुकानें, सब्जी और फलों की दुकानें शुरु थी। रिक्शा और अन्य यातायात सेवाएं भी जारी होने से नागरिकों को किसी प्रकार की तकलीफों का सामना नहीं करना पड़ा। रेलवे स्थानक और बस स्थानक पर रेल व बसों की आवाजाजी जारी थी। बसस्थानक पर अन्य शहरों से  हर दिन की तरह बसों की आवाजाही जारी थी। शहर में लॉकडाउन होने के जानकारी आम जनता तक पहुंचने के कारण बस स्थानक व रेलवे स्थानक पर यात्रियों की भीड़ कम नजर आई। 

    पुलिस का पुख्ता बंदोबस्त 

    Successful first day of strict lockdown in Aurangabad.

    सख्त लॉकडाउन को लेकर शहर के प्रमुख चौराहों पर पुलिस का पुख्ता बंदोबस्त था। शहर के हर्सूल टी पॉईंट, अहमदनगर नाका, बाबा पेट्रोल पंप, सेवन हिल, सेन्ट्रल नाका, टीवी सेंटर चौक, जिलाधिकारी कार्यालय चौक में पुलिस का बंदोबस्त तैनात किया गया था। सुबह के समय पुलिस अधिकारियों और कर्मचारियों ने सड़क से गुजरनेवाले हर वाहन धारक को रोककर घर से बाहर निकलने का कारण पूछा। कई युवकों को पुलिस ने बिना वजह घर के बाहर निकलने को लेकर डंडे भी बरसाए। 

    छावनी में भी लॉकडाउन रहा सफल 

    शहर से सटे छावनी परिसर में भी लॉकडाउन पूरी तरह कामयाब रहा। छावनी परिषद के मुख्य अधिशासी अधिकारी विक्रांत मोरे ने बताया कि प्रशासन के अपील पर छावनी परिसर के व्यापारियों ने अपने व्यवहार पूरी तरह बंद रखकर प्रशासन को पूरी तरह सहयोग दिया है। उधर, जिले के सिल्लोड, खुलदाबाद, कन्नड, गंगापुर, पैठन, फुलंब्री तहसीलों में भी बंद को जोरदार समर्थन मिला। 

    आला अधिकारियों ने माना जनता का आभार 

    कई इलाकों का दौरा करने के बाद शहर के सीपी डॉ. निखिल गुप्ता, मनपा प्रशासक आस्तिक कुमार पांडेय ने जनता का आभार माना। सीपी डॉ. गुप्ता ने पत्रकारों से बातचीत करते हुए कहा कि मुझे बहुत खुशी है कि औरंगाबाद की जनता ने कोविड महामारी को रोकने के लिए प्रशासन की अपील को जोरदार समर्थन दिया है। लोग काफी कम संख्या में सड़क पर दिखाई दे रहे है। डॉ. गुप्ता ने दावा किया कि औरंगाबाद वासियों ने इसी तरह प्रशासन को सहयोग दिया तो हम जल्द ही फिर एक बार कोरोना महामारी पर लगाम लगाने में कामयाब होंगे। पिछले कुछ दिनों से शहरवासी जिस तरह समझदारी दिखा रहे है, उसी तरह हमें उम्मीद है कि आनेवाले दिनों में भी जो-जो हिदायतें प्रशासन की ओर से दी जाएगी, उसे औरंगाबादवासी फॉलो करेंगे। सीपी ने कहा कि सख्त लॉकडाउन का प्रथम दिन पूरी तरह कामयाब रहा। नागरिकों ने प्रशासन की अपील पर भरपूर सहयोग देकर अपने घरों में रहना मुनासिब समझा।

    लॉकडाउन का निर्णय को जनता को तकलीफों  से बचाने के लिए 

    मनपा प्रशासक आस्तिक कुमार पांडेय ने शहर का दौरा करने के बाद कहा कि प्रशासन ने जनता को कोरोना महामारी के तकलीफों से बचाने के लिए लॉकडाउन लगाया है। पिछले कुछ दिनों से कोरोना महामारी ने तेजी से पांव पसारने के चलते प्रशासन को सख्त लॉकडाउन लगाने का निर्णय लेना पड़ा। जनता ने  प्रशासन को पूरी तरह सहयोग दिया तो हम जल्द ही इस महामारी से बाहर आएंगे। यह विश्वास प्रशासक पांडेय ने जताया।