District Court, Lok Adalat

भंडारा (का). स्थानीय जिला कोर्ट में आयोजित राष्ट्रीय लोक अदालत में एक ही दिन 2226 मामलों का निपटारा किया गया. न्याय प्रणाली पर बढ़ते कार्यभार को कम करने के लिए लोक अदालत प्रभावी ढंग से चलाई जा रही है. जैसे-जैसे न्यायालय के लंबित मामलों की संख्या दिन-प्रतिदिन बढ़ती जा रही है, लोक अदालत के माध्यम से इन मामलों को कम करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभा रही है.

राष्ट्रीय विधि सेवा प्राधिकरण नई दिल्ली महाराष्ट्र राज्य विधि सेवा प्राधिकरण मुंबई के निर्देश अनुसार तथा प्रमुख जिला व सत्र न्यायाधीश तथा जिला विधि सेवा प्राधिकरण अध्यक्ष संजय देशमुख के मार्गदर्शन में शनिवार को सभी अपराधिक एवं दीवानी अदालत, श्रम न्यायालय, औद्योगिक न्यायालय, परिवार अदालतों के मार्गदर्शन में लोक अदालत का आयोजन किया गया. इसके लिए पैनल सदस्य के रूप में न्यायाधीश व अधिवक्ता ने काम देखा.

इस लोक अदालत में लंबित न्यायालय में कुल 22,527 मामले रखे गए थे. इनमें से 11 मामले मोटर वाहन दुर्घटना, 4 मामले भूमि अधिग्रहण, 30 मामले वैवाहिक विवाद, 39 मामले एनआय एक्ट, 10 मामले पारिवारिक न्यायालय, 1 मामला औद्योगिक न्यायालय, 37 मामले मोटर वाहन कानून तथा 71 मामले बैंक कर वसूली एवं 1867 मामले नप, पंस, ग्रापं. करवसूली ऐसे कुल 2226 मामलों का निपटारा किया गया. 

लंबित मामलों का आसान हल

लोक अदालत में लंबित मामलों को आसानी से हल किया जा सकता है. इसे सार्वजनिक किया गया है. इसके लिए अब वादी एवं प्रतिवादी स्वयं पहल करते हैं. इससे लोक अदालत में मामलों को तेजी से निपटाना संभव हो जाता है. सफलता के लिए जिला विधिक सेवा प्राधिकरण के सचिव नरेश के. वालेके ने सभी न्यायिक अधिकारी, पैनल के सदस्य, अधिवक्ता, कानूनी स्वयंसेवक, कर्मचारी एवं दलों को आभार माना.