Nagar Parishad

साकोली. पिछले 6 महीनों से कई मामलों को लेकर साकोली नप चर्चा में है. प्रतिदिन ही नए नए मामले सामने आ रहे हैं. साकोली नप का दमकल वाहन खरीदी मामले की जांच शुरू ही है. अभी फिर से एक ओर अध्यक्ष दूसरी ओर मुख्याधिकारी के बीच नया विवाद शुरू हो गया है. अध्यक्ष धनवंता राऊत ने भूमिपूजन के दौरान सरकारी आदेश का उल्लंघन करने की शिकायत जिलाधिकारी से की थी. उस दिन भूमिपूजन के कई कार्यक्रम किए गए थे. इसलिए केवल लहरीबाबा मठ के भूमिपूजन की ही शिकायत कैसे की गई यह चर्चा है.

नहीं पाले नियम
नगराध्यक्ष की शिकायत के अनुसार 5 जून को लहरीबाबा मठ परिसर में भूमिपूजन का कार्यक्रम आयोजित किया गया. इस कार्यक्रम में फिजिकल डिस्टेंसिंग नहीं रखते हुए सार्वजनिक जगह पर मास्क का इस्तेमाल नहीं करते हुए कार्यक्रम लिया गया. प्रतिबंध के आदेश का उल्लंघन किया गया है.

जिलाधिकारी के आदेश के अनुसार जिले में लिए जानेवाले सामाजिक, राजनीतिक, सांस्कृतिक, धार्मिक, खेल संबंधी कार्यक्रम एवं शिविर, सभा, सम्मेलन, यात्रा, रैली, धरना, आंदोलन आदि कार्यक्रमों पर प्रतिबंध लगाए गए हैं. इसके बावजूद मुख्याधिकारी माधुरी मडावी ने अपने अधिकार का उपयोग कर नियमों का उल्लंघन किया है. शिकायत की प्रतिलिपी लोकायुक्त महाराष्ट्र सरकार, मुख्य सचिव एवं पुलिस अधीक्षक भंडारा को सौंपी गई. 

कई दिनों से चल रहा विवाद
साकोली में नप के पदाधिकारी एवं मुख्याधिकारियों के बीच में कई दिनों से विवाद चल रहा था. आरोप था कि पदाधिकारी की बातों की ओर मुख्याधिकारी हमेशा ही अनदेखी करते आई हैं. अंतत: संयम का बांध टूट ही गया. एवं मुख्याधिकारी की शिकायत जिलाधिकारी की ओर की गई.

लिए गए विविध कार्यक्रम
5 जून को विधानसभा अध्यक्ष नाना पटोले का जन्मदिन था. इस जन्मदिन के उपलक्ष्य में साकोली में विभिन्न कामों के भूमिपूजन किए गए. इसमें लहरीबाबा मठ देवस्थान परिसर में भक्त निवास, कुणबी समाज भवन का भूमिपूजन, शारदा चौक में समाज मंदिर का भूमिपूजन ऐसे विभिन्न कार्यक्रम संपन्न हुए थे. 

सरकारी प्रक्रिया हुई पूर्ण : मड़ावी
मुख्याधिकारी मड़ावी ने बताया कि लहरीबाबा मठ देवस्थान परिसर के भक्त निवास के निर्माणकार्य के लिए सरकारी प्रक्रिया पूर्ण हुई थी. निधि का इस्तेमाल शीघ्र ही होना चाहिए इसके लिए भूमिपूजन को मंजूरी दी थी. फिजिकल डिस्टेसिंग एवं मास्क लगाने के लिए सभी को सूचित किया गया था. 

भूमिपूजन का विरोध नहीं : राऊत
नगराध्यक्ष धनवंता राऊत ने कहा कि लहरीबाबा मठ देवस्थान के भूमिपूजन का विरोध नहीं है. सरकारी निधि का उपयोग सही जगह पर ही हो रहा है, किंतु भूमिपूजन करते समय जिलाधिकारी के आदेश के अनुसार नियमों का पालन करना जरूरी था.