90 Q. in the division Sowing settlement, Yavatmal topper, Akola lagging behind

लाखनी. तहसील में खरीफ मौसम के धान के रोपाई को शुरूआत हुई है. तहसील में अब तक 18 हेक्टेयर क्षेत्र में रोपाई हुई है. 419 हेक्टेयर क्षेत्र में धान बिज बोए गए है. इसका आम क्षेत्र 698 हेक्टेयर है. तहसील के जुन महिने की बारीश 149 मि.मि. दर्ज है. अब तक 274 मि.मि. बारीश दर्ज हुई है. इसका प्रतिशत 183.20 है. लाखनी तहसील में 2020:21 खरीफ मौसम में धान फसल के निचे आम क्षेत्र 22 हजार 631 हेक्टेयर है. इनमें से धान बिज बुआई का क्षेत्र 698 हेक्टेयर एवं धान की नर्सरी 2 हजार 193 हेक्टेयर पर है.

नर्सरी को 1425 हेक्टेयर क्षेत्र पर बोया गया है. तहसील में सिंचाई की सुविधा होनेवाली जगह पर नर्सरी लगाई गई है. तथा धान बिजों की बुआई की है. असिंचित क्षेत्र के धान बिज एवं नर्सरी का काम रूका हुआ है. 22 एवं 23 जुन को बारीश होने के पश्चात बारीश ने फिर से वश्रिांती ली है. तहसील में तुअर फसल का आम क्षेत्र 1946 हेक्टेयर पर है. फिलहाल तुअर की बुआई 706.60 हेक्टेयर क्षेत्र पर की गई है. बुआई का कार्य अभी भी शुरू है.

तहसील में 32.80 हेक्टेयर क्षेत्र में सागसब्जियों की बुआई हुई है. इसमें भिंडी, फल्ली, करेला, मर्चिी, बैगन, लौकी की बुआई की है. तहसील में गन्नें का क्षेत्र घट गया है. सांख्यिकी विभाग के जानकारी अनुसार इसके पूर्व 377 हेक्टेयर क्षेत्र में गन्ना बोया जाता था. यह क्षेत्र अब घट चुका है. खरीफ तिल 167 हेक्टेयर के बजाए 10 हेक्टेयर क्षेत्र में लगाया गया है. गन्ना बुआई करनेवाले किसान अब धान की ओर आकर्षिक हो रहे है.

किसानों को मार्गदर्शन : गिदमारे
तहसील कृषि अधिकारी पदमाकर गिदमारे ने बताया कि खरीफ मौसम में किसान धान का उत्पादन लेते है. गन्ना, तिल तथा खेत पर ली जानेवाली अन्य फसल अब कम हुई है. रोपाई संबंध में किसानों को मार्गदर्शन किया जा रहा है. कृषि विभाग के कर्मचारियों द्वारा खेत परिसर को भेंट देकर प्रत्यक्ष जानकारी दी जा रही है.