Court rejects ED investigation plea in the case against Jet Airways

    नई दिल्ली: जेट एयरवेज (Jet Airways) पुरे तीन साल बाद उड़न भरने के लिए तैयार है। नागरिक उड्डयन महानिदेशालय (DGCA) ने शुक्रवार को जेट एयरवेज को एयर ऑपरेटर सर्टिफिकेट (AOC ) प्रदान कर दिया। जिसके बाद से या विमानन सेवा प्रदान कर सकती है। 

    डीजीसीए के एक वरिष्ठ अधिकारी ने एएनआई को बताया कि, एयरलाइन को एओसी दी गई थी। एयरलाइन ने 17 मई को डीजीसीए अधिकारियों सहित 31 लोगों के साथ दो साबित उड़ानों का दूसरा और अंतिम उड़ान सेवाएं संचालित की गई थीं।

    अधिकारी ने कहा, “एयरलाइन ने सभी आवश्यक परिचालनों को पूरा कर लिया है, जिसके लिए विमानन नियामक डीजीसीए द्वारा एयर ऑपरेटर सर्टिफिकेट (एओसी) की आवश्यकता होती है।” 

    इस दिन भर सकता उड़ान 

    जेट एयरलाइन की इसी साल जुलाई-सितंबर की तिमाही में कमर्शियल उड़ान भरने की संभावना है। बीते  5  मई को जेट ने पहली बार टेस्ट उड़ान भरी थी। बीते 5 मई को जेट एयरवेज ने पहली बार टेस्ट उड़ान भरी थी। इसके बाद 3 अनिवार्य उड़ान सेवाएं संचालित की गई थीं। इस उड़ान में डीजीसीए के अधिकारी भी शामिल थे। इसी के बाद एयर ऑपरेटर सर्टिफिकेट की अनुमति दी गई है।

    इस वजह से थी उड़ान सेवाएं बंद 

    गौरतलब है कि, जेट एयरवेज ने अप्रैल 2019 में वित्तीय संकट की वजह से उड़ान सेवाएं बंद कर दी थी। अभी फ़िलहाल जालान-कलरॉक कंसोर्टियम जेट एयरवेज का प्रमोटर है। जेट एयरवेज को संचालन की अनुमति के बाद सप्ताह के आखिरी कारोबारी दिन उसके शेयर ने एक बार फिर उड़ान भरी थी।