9  माह बाद 16 से सभी प्रार्थनास्थलों के खुलेंगे द्वार,  देवी देवताओं के पूजा अर्चना की होगी शुरूआत

चंद्रपुर. कोरोना महामारी को देखते हुए मार्च के उत्तरार्ध में बंद कर दिए गए प्रार्थनास्थलों को 16 नवंबर से खोलने का राज्य सरकार ने फैसला लिया है जिससे विगत 9 माह से वंचित भक्तों में काफी उत्साह है।

लॉकडाऊन के चलते हालांकि पूरे देश में प्रार्थनास्थलों को बंद कर दिया गया था। परंतु जिस तरह से लॉकडाऊन में ढील देते हुए सभी जगह की पाबंदियां हटायी गई उसी तरह देश के सभी प्रार्थनास्थलों से भी पाबंदियां हटा दी गई है। परंतु महाराष्ट्र सरकार ने कोरोना महामारी का हवाला देते हुए प्रार्थना स्थलों पर पाबंदी को बरकरार रखा था. जिसके लिए सरकार को काफी विरेाध भी सहना पड़ा. भाजपा ने तो आंदोलनों के जरीये सरकार की खिंचाई की थी। राज्य सरकार ने दीपावली तक प्रार्थनास्थलों को शुरू करने घोषणा की थी जिसमें मद्देनजर सभी प्रार्थना स्थलों को  सोमवार से आम जनता के लिए शुरू कर दिया गया है।

हालांकि लॉकडाऊन के बाद भी मस्जिदों में केवल पांच नमाजियों को नमाज पढने और मंदिरों में पुरोहितों को ही केवल पूजापाठ की अनुमति दी गई थी। अन्य धार्मिक स्थलों में भी सीमित लोगों को ही अपनी अपनी विधिविधान से प्रार्थनाओं की अनुमति दी गई थी। दरगाहों पर तो पूरी तरह से पाबंदी लगायी थी। सभी तरह  के धार्मिक आयोजन पर पूरी तरह से पाबंदी बरकरार रखी गई थी।

इस दौरान जितने भी त्यौंहार और पर्वों को लोगों ने अपने अपने घरों में ही शांति और सादगी के साथ संपन्न कराया। ईदों की नमाजें भी ईदगाहों पर सामूहिक रूप से ना अदा करते हुए मुस्लिमों ने अपने घर में अदा की, गणेशोत्सव, नवरात्रि उत्सव, विजयादशमी के दौरान सामूहिक रूप से आयोजनों के बजाय बेहद सादगी के साथ इन त्यौंहारों का आयोजन हुआ। 

चंद्रपुर महानगर में ऐतिहासिक देवी महाकाली मंदिर, सोमेश्वर मंदिर,कालाराम मंदिर, माता कन्यका परमेश्वरी मंदिर, गणपति वार्ड स्थित गणेश मंदिर, विठ्ठल वार्ड स्थित विठ्ठलमंदिर,  एकोरी वार्ड स्थित एकविरा मंदिर जटपुरा गेट स्थित देवी दुर्गा मंदिर शक्तिपीठ, मेनरोड स्थित स्वामी लक्ष्मी नारायण मंदिर, कस्तूरबा रोड स्थित स्वामी नारायण मंदिर,  पडोली परिसर स्थित शनि मंदिर, विवेकनगर स्थित राममंदिर, दुर्गापुर चेक पोस्ट परिसर स्थित स्वामी आयप्पा मंदिर,  बंगाली कैम्प परिसर स्थित काली माता मंदिर.

इसी तरह सभी मस्जिदों, चांदा क्लब ग्राऊंड के सामने स्थित दरगाह, सराफा बाजार स्थित दरगाह, पठानपुरा गेट के बाहर स्थित जमनजट्टी दरगाह, महाकाली मंदिर के पास स्थित गुरूद्वारा, तुकूम स्थित गुरूद्वारा, यशवंतनगर स्थित गुरूद्वारा, मुख्य मार्ग पर स्थित चर्च, पुरारा वरोरा नाका स्थित चर्च, पठानपुरा परिसर गेट परिसर, तुकूम विवेकनगर स्थित जैन मंदिरों, शहर के प्रमुख बुध्द विहारों में अब पहली जैसी चहल पहल देखने को मिलेगी।