Manoj Adhikari Murder Case

  • पार्षद अजय सरकार समेत 2 गिरफ्तार

चंद्रपुर. कांग्रेसी युवा कार्यकर्ता मनोज अधिकारी की हत्या की गुत्थी सुलझाने में अभी पुलिस को पूर्णतः सफलता नहीं मिली है है, इस मामले में पुलिस ने 2 लोगों की गिरफ्तारी की है जिसमें मनपा पार्षद अजय सरकार समेत 2 आरोपियों का समावेश है। दोनों आरोपियों को गुरुवार को न्यायालय में पेश किया गया जहां दोनों को 5 अक्टूबर तक पुलिस रिमांड में रखने का आदेश दिया गया है। पुलिस 2 अन्य आरोपियों की तलाश कर रही है। जिसमें 1 महिला का भी नाम शामिल है।

पुलिस इस जघन्य हत्याकांड के पीछे के सारे पहलुओं को बारीकी से तलाशने के काम कर रही है। इस हत्याकांड से शहर के बंगाली कैम्प में दूसरे दिन भी तनाव की स्थिति बरकरार थी। इस हत्याकांड से क्षुब्ध लोगों ने बंगाली कैम्प में गुरुवार को भी चक्का जाम किया। बुधवार की शाम को भी बंगाली कैम्प में तनाव की स्थिति रही थी। गुरुवार को पुलिस को क्षुब्ध भीड़ को तितर बितर करने के लिए बलप्रयोग भी करना पड़ा। पोस्टमार्टम के बाद जैसे ही मृतक मनोज का शव उसके निवासस्थान पर लाया गया, लोगों का वहां जमावड़ा हो गया। मृतक के शव पर जहां अंतिमसंस्कार किये गए वहां श्मशान में भी भारी भीड़ जमा हुई थी।

बुधवार की दोपहर में उजागर हुये इस जघन्य हत्याकांड के पीछे प्राथमिक अनुमान के अनुसार प्रेम संबंधों का तथा राजनीतिक वद्वेष का कारण जिम्मेदार होने की बात सामने आ रही है, पुलिस भी उसी दिशा में तफ्तीश कर रही है। 

इस मामले में फिलहाल जिन संदिग्धों लोगों के नाम सामने आ रहे है जिनमें 1 और युवती का नाम भी सामने आ रहा है। यह हत्या मंगलवार की रात में ही घटित होने की जानकारी सामने आ रही है। जिस फ्लैट में मृतक मनोज का छिन्न विच्छिन्न अवस्था मे शव पाया गया है वह फ्लैट मृतक मनोज का ही होने की जानकारी भी निकलकर सामने आ रही है। 

बताया जाता है कि, मृतक मनोज पिछले 4 दिनों से इस फ्लैट पर आना जाना कर रहा था तथा दिन व्यतीत करने के पश्चात रात को घर लौट जाता था। मंगलवार की रात जब वह घर नहीं लौटा तो परिजनों ने जब उसकी तलाश शुरू की तब यह हत्याकांड सामने आया।

मृतक मनोज के साथ रवि बैरागी नाम के एक युवक को अक्सर देखा जाता था। पुलिस ने पार्षद अजय सरकार समेत उसे भी हत्या के आरोप में गिरफ्तार किया है। 

2 दिनों से जब मृतक मनोज का कहीं अता पता नहीं चल रहा था तब उसके परिजनों ने मनोज के बारे में इसी बैरागी नामक युवक से पूछताछ की थी और वे जब दाताला, कोसारा स्थित सिनर्जी वर्ल्ड में स्थित मनोज के उस फ्लैट पर उसके परिजन पहुँचे तब कहीं जाकर वहां मनोज की खून से लथपथ लाश बरामद हुई थी। मृतक के सिर पर किसी धारदार हथियार से वार किए जाने के निशान स्पष्ट रूप से दिखाई दे रहे थे। जिस प्रकार के यह घाव नजर आ रहे थे उसे देखते हुए यह हत्या कुल्हाड़ी से किये जाने का अनुमान पुलिस का है।

इस मामले में जिन 2 युवतिओं का नाम सामने आ रहा है. उनमें से एक  युवती जो कि मूलतः बंगाली कैम्प में ही रहती है लेकिन फिलहाल वह मुंबई में रहकर भोजपुरी फिल्मों में काम मिलने के लिए स्ट्रगल कर रही है। दूसरी एक युवती मृतक मनोज से घनिष्ठता वाले एक युवक की प्रेमिका बतायी जा रही है। यह वही युवक है जिसके मृतक मनोज से आर्थिक संबंध थे। 

चर्चा के अनुसार मृतक मनोज को कोल्ड ड्रिंक में कोई दवा मिलाकर बेहोश करने के बाद उसकी हत्या की गई होगी। पुलिस उस दिशा में फ्लैट से सुबूत जुटाने की कोशिश में है। यह भी बताया जा रहा है कि, रात में हत्या के बाद आरोपी फ्लैट से निकल गए थे तथा उनका दूसरे दिन लाश को ठिकाने लगाने का प्लान था, उसके पहले ही यह हत्याकांड उजागर हुआ। 

वायरल वीडियो से खलबली
इस बीच जिस बैरागी नामक आरोपी को पुलिस ने इस मामले में गिरफ्तार किया है उसी ने गिरफ्तारी से पहले एक वीडियो वायरल कर हत्या के लिए पार्षद अजय सरकार तथा एक युवती जिम्मेदार होने की बात कही थी।  इसी वायरल वीडियो के कारण बंगाली कैम्प परिसर में खलबली मच गई थी।

पार्षद सरकार के घर तोड़फोड़
मनोज अधिकारी की हत्या से क्षुब्ध लोगों की भीड़ ने बुधवार की शाम बंगाली कैम्प परिसर के मनपा पार्षद अजय सरकार के घर तोड़फोड़ की। घर के सामने रखी गाड़ियों को नुकसान पहुंचाया। क्षुब्ध भीड़ पर नियंत्रण पाने के लिए पुलिस को लाठियां चलानी पड़ी। इस हत्याकांड को लेकर एक व्यक्ति द्वारा एक वीडियो वायरल किया गया था जिसमें हत्या के लिए एक पार्षद जिम्मेदार होने की बात कही गयी थी। 

आपराधिक घटनाओं को रोकना जरूरी, भाजपा ने SP से की मांग
जिले में बड़े पैमाने पर माफियाराज पनप रहा है जिसके चलते आपराधिक घटनाओं में वृध्दि हो रही है, इस पर तत्काल रोक लगाने की मांग भाजपा ने जिला पुलिस अधीक्षक अरविंद सालवे से की।

जिलाध्यक्ष देवराव भोंगले के नेतृत्व में एक प्रतिनिधिमंडल ने गुरुवार को एसपी से मुलाकात की तथा उनसे जिले में बढ़ती आपराधिक वारदातों पर अंकुश लगाने की मांग की।