If the tiger is not in the cage then give orders to shoot

मध्य चांदा वनविभाग में राजुरा, विरूर स्टेशन वनपरिक्षेत्र में आरटी 2 बाघ ने आतंक मचा रखा है।

  • शेतकरी संगठन की वनमंत्री से मांग

चंद्रपुर. मध्य चांदा वनविभाग में राजुरा, विरूर स्टेशन वनपरिक्षेत्र में आरटी 2 बाघ ने आतंक मचा रखा है। इस बाघ ने अब तक दस लोगों को अपना शिकार बनाया है। बाघ को पकडने में वनविभाग कई जगहों पर पिंजरे लगाये है किंतु आज तक उन्हे सफलता नहीं मिली है। यदि वनविभाग बाघ को पिंजरे में पकडने में असफल हो रहा है तो इस नरभक्षी बाघ को शूट करने के आदेश देने की मांग शेतकरी संगठन ने राज्य के वनमंत्री संजय राठोड को ई मेल कर की है।

उल्लेखनीय है कि राजुरा, विरूर साथ ही समीपस्थ के लाठी क्षेत्र में बाघ के हमलों में अब तक दस लोगों केा अपना शिकार बनाया और बीसियों को मवेशियों का भी शिकार किया है। बाघ को पकडने में वनविभाग पूरी तरह से विफल साबित हो रहा है। नागरिकों के जीवनरक्षा, उनकी कृषि की रक्षा के लिए नरभक्षक बाघ का तत्काल बंदोबस्त करना आवश्यक है।

कृषि व्यवसाय पर निर्भर किसान, खेतिहर मजदूर निर्भय होकर खेतों में काम कर फसलों की पैदावार ले सके इन सभी बातों का विचार कर नरभक्षी बाघ को तुरंत शूट करने की अनुमति देने की मांग  शेतकरी संगठन ने राज्य के वनमंत्री संजय राठोड को भेजे ई मेल द्वारा की है। इसके पूर्व नागभीड, रालेगांव_ पांढरकवडा और ब्रम्हपुरी क्षेत्र में  अनुमति देकर बाघ को मारा जा चुका है। बाघ के हमले में मृत खांबाडा के किसान मारोती पेंदोर के मृत को वनविभाग में नौकरी देने की मांग भी शेतकरी संगठन के नेता पूर्व विधायक एड. वामनराव चटप ने की है।