strike

    चंद्रपुर. 6वां वेतन आयोग अनुसार वेतन देने की मांग को लेकर मलेरिया छिड़काव कामगारों ने जिला परिषद के सामने धरना दिया. इस दौरान कामगारों ने सरकार के खिलाफ जमकर नारेबाजी की. पश्चात जिला परिषद के मुख्य कार्यपालन अधिकारी श्याम वाखर्डे को मांगों का ज्ञापन सौंपा गया.

    नहीं दिया जा रहा ध्यान

    जिला परिषद के स्वास्थ्य विभाग में मलेरिया प्रतिबंधक छिड़काव कामगार कार्यरत है. इन कामगारों को आज तक 6वें वेतन आयोग अनुसार वेतन दिया जा रहा है. वर्तमान मौसम में 6वें वेतन आयोग अनुसार वेतन नहीं देते हुए दूकान में काम करने वाले कामगार की तरह वेतन देने का निर्णय राज्य सरकार ने लिया है. इस निर्णय का निषेध कर पूर्व की तरह 6वें वेतन आयोग अनुसार वेतन देने की मांग के लिए जिला परिषद कार्यालय के सामने धरना दिया गया.

    तीव्र आंदोलन की चेतावनी

    प्रा. रमेशचंद्र दहीवले ने आंदोलन का नेतृत्व किया. उन्होंने कहा कि पिछले कई वर्षों से मलेरिया छिड़काव कामगार अपनी मांगों के लिए संघर्ष कर रहे हैं. इसे लेकर कई बार प्रशासन व सरकार का ध्यानाकर्षण किया गया. आंदोलन, प्रदर्शन व ज्ञापन दिए गए. लेकिन कोई लाभ नहीं हुआ है. समस्या हल करने की बजाए इसे बढ़ाया जा रहा है. जल्द मांगें पूर्ण नहीं किए जाने पर तीव्र आंदोलन छेड़ने की चेतावनी उन्होंने दी. आंदोलन में प्रमोद गोड़घाटे, राजेश पिंजरकर, सुदाम भागडकर, राजेश पिंजरकर, सुदाम भागडकर, सामेश्वर ठेंगरी, अजाबराव गजभिये, हरि मेश्राम, बाजीराव घोड़मोड़े, मंसराम मानगुलधे आदि ने हिस्सा लिया.