ipl-2021-csk-vs-srh-ravindra-jadeja-takes-amazing-catch-of-david-warner-wife-celebrates-see-viral-watch-video

    – विनय कुमार

    दुनिया के सबसे लोकप्रिय लीग क्रिकेट के महाकुंभ IPL के ताज़ा सीजन ‘IPL 2021’ को 29 मैच खेलने के बाद स्थगित करना पड़ा था। कोरोना महामारी की भयानक दूसरी लहर ने शबाब पर मौज कर रही ‘IPL 2021’ को रोकने पर मजबूर कर दिया था। कई खिलाड़ी और टीम स्टाफ कोविड पॉजिटिव पाए गए थे, इससे हड़कंप मच गया था।

    खौफ इस कदर था कि,  कुछ खिलाड़ियों ने आईपीएल स्थगित होने से पहले ही टूर्नामेंट छोड़ने का फैसला ले लिया था। लेकिन, अब ये साफ कर दिया गया है कि सीIPL 2021’के बाकी के बचे 31 मैच UAE में अब से 3 महीने बाद सितंबर-अक्टूबर के बीच कराए जाएंगे।

    IPL की इस रिशेड्यूलिंग के कारण कई विदेशी खिलाड़ियों का खेलना मुश्किल हो गया। कई विदेशी सितारे अपने देश के बिजी शेडयुल्ड प्रोग्राम की वजह से आईपीएल के इस दूसरे सेशन में नहीं खेल पाएंगे। पैट कमिंस (Pat Cummins) और बेन स्टोक्स (Ben Stokes) पहले से ही UAE session से बाहर होने के लिए तैयार हैं। उनके अलावा कई अन्य विदेशी क्रिकेटर्स भी विवाद की वजह से बाहर हो रहे हैं। ऐसे में BCCI के बयान ने उन खिलाड़ियों को जोर का झटका दिया है जो UAE में ‘IPL 2021’ के बाकी के मैचों में हिस्सा नहीं लेंगे।

    नहीं किया जाएगा पूरा पेमेंट

    BCCI के एक ऑफिशल न कहा कि आईपीएल के दूसरे चरण से बाहर होने पर विदेशी खिलाड़ियों को नुकसान उठाना पड़ेगा। उदाहरण के लिए, पैट कमिंस (Pat Cummins), जिन्हें रिकॉर्ड 15.5 करोड़ रुपए में खरीदा गया था, अगर वो IPL 2021 के बाकी के मैचों के लिए उपलब्ध नहीं होंगे,  तब उन्हें सिर्फ 7.75 करोड़ (आधी राशि) का भुगतान किया जाएगा। अधिकारी ने कहा कि खिलाड़ियों को सभी मैच के लिए उपलब्ध नहीं होने पर प्रो-राटा आधार पर वेतन दिया जाएगा।

    फ्रेंचाइजी के पास हैं पूरे अधिकार

    BCCI के ऑफिशल ने कहा, “हां यह सही है, अगर वे (विदेशी खिलाड़ी) ‘IPL 2021’ (UAE Session) के लिए नहीं जा सकते हैं, तो टीम फ्रेंचाइजी उनकी सैलरी में कटौती करने और उन्हें प्रो-राटा के आधार पर भुगतान करने के अपने अधिकार में होंगे।” 

    उन्होंने साफ किया कि, जब किसी प्लेयर को नीलामी में खरीदा जाता है, तो उसे फिर पूरा सीजन खेलना पड़ता है। इसलिए, कमिंस (Pat Cummins) को ‘IPL 2021’ के पूरे सीजन के लिए पूरे 15.5 करोड़ मिलने वाले थे, लेकिन अब कम मिलेंगे।

    12 महीने में होता है पेमेंट

    IPL में खेलने वाले खिलाड़ियों (IPL Contract Players) को 12 महीने की अवधि में किश्तों में भुगतान किया जाता है।  और, खेल के दौरान चोटिल होने और टूर्नामेंट से बाहर होने की स्थिति में अनुबंध के हिसाब से नीलामी में खरीदी गई पूरी रकम अदा की जाती है। लेकिन, आनुपातिक आधार के तरीके से भुगतान तभी किया जाता है, जब कोई खिलाड़ी उसे सीजन के लिए उपलब्ध नहीं होता है।

    गौरतलब है कि, यह पहला मौका नहीं है जब आईपीएल टूर्नामेंट भारत की बजाए विदेश के मैदानों में शिफ्ट हो रहा है। इससे पहले 2014 में आईपीएल टूर्नामेंट का पहला चरण UAE में खेला गया था। पिछले साल भी कोरोना महामारी के कारण सीजन-13 यानी, ‘IPL 2020’ का आयोजन 6 महीने देरी से UAW में ही Covid-19 Protocol के तहत बायो-बबल की बेहद सख्त सुरक्षा कवच में कराया गया था।