BPSC : उत्तर कॉपी में ‘जय माता दी’, ‘पास करा दो’ लिखने पर उम्मीदवारी हो जाएगी रद्द

नई दिल्ली. आज से बिहार लोक सेवा आयोग (Bihar Lok Seva Aayog) (BPSC) की ओर से 65वीं की मुख्य परीक्षा शुरू हो रही है। आयोग ने परीक्षा को लेकर कुछ दिशानिर्देश जारी किए हैं। परीक्षा में उम्मीदवारों को इन नियमों का पालन करना अनिवार्य होगा अन्यथा उम्मीदवारी रद्द की जा सकती है। जानकारी हो कि, 550 पदों के लिए होने वाली बीपीएससी (BPSC main exams 2020) (BPSC)  की 65वीं मुख्य परीक्षा में 63 सौ परीक्षार्थी शामिल होंगे। यह परीक्षा दो पालियों में होगी, वहीं 26 व 28 नवम्बर की परीक्षा एक पाली में होनी है। 

उत्तर पुस्तिका में न लिखें ये शब्द

बिहार लोक सेवा आयोग (BPSC) ने परीक्षा को लेकर जारी दिशा निर्देश में बताया गया है कि, यदि परीक्षार्थी उत्तर पुस्तिका में किसी तरह का निशान, धार्मिक चिह्न या धार्मिक शब्द लिखता है तो उसकी उम्मीदवारी रद्द कर जाएगी। आयोग की मानें तो अक्सर यह देखने में आया है कि कई बार परीक्षार्थी उत्तर पुस्तिकाओं में श्री गणेशाय नम:, जय जगदम्बा, जय महादेव, मां, बाबा, जय माता दी, अल्लाह आदि लिख देते हैं। साथ ही उत्तर पुस्तिका में  जय हिन्द, जय भारत, जय मिथिलांचल, जय जवान समेत अन्य तरह स्लोगन का प्रयोग करने की मनाही होगी।  

जारी गाइडलाइन के अनुसार उत्तर पुस्तिका में सर पास कर दीजिए, थैंक्स, सॉरी, थैंक्यू, चरण स्पर्श जैसे शब्द नहीं  लिखना है और ना ही किसी तरह की नोट  रखना है। इनमें से किसी चीज का उल्लंघन करने पर उम्मीदवारी कैंसल कर दी जाएगी।

उम्मीदवारी हो जाएगी रद्द

आयोग की ओर से कहा गया है परीक्षार्थियों की उत्तरपुस्तिका में किसी तरह का कुछ शब्द या धार्मिक चिन्ह अंकित रहने पर उम्मीदवारी समाप्त कर दी जाएगी। इसकी पूरी जिम्मेदारी परीक्षार्थियों की होगी। साथ ही परीक्षा में एक रंग के पेन का ही उपयोग करना है।