Photo: Instagram
Photo: Instagram

    मुंबई: कोरोना के कहर से नेता हो या अभिनेता कोई नहीं बच पा रहा है। देश में बढ़ते कोरोना को देखकर सरकार भी बहुत ज्यादा परेशान है। रोजाना किसी न किसी एक्टर के कोरोना संक्रमित होने की बात सामने आ रही है। कोरोना महामारी के चलते आए दिन बॉलीवुड सेलेब्स के निधन की खबरें आती रहती है। इसी बीच हाल ही में  मलयालम फिल्मों के लोकप्रिय गीतकार पूवाचल खादर (Lyricist Poovachal Khader) का कोविड-19 (Covid-19) से संक्रमित होने के कारण सरकारी मेडिकल कॉलेज अस्पताल में निधन हो गया। पारिवारिक सूत्रों ने यह जानकारी दी। 72 वर्षीय का कुछ समय से इलाज चल रहा था और मंगलवार आधी रात को उन्हें दिल का दौरा पड़ा। 

    मलयालम सिनेमा में 1970 और 1980 के दशक में कई सदाबहार लोकप्रिय रूमानी और दर्द भरे नगमों की रचना करने वाले प्रख्यात गीतकार-कवि पूवाचल खादर का मंगलवार को कोविड-19 की जटिलताओं के कारण निधन हो गया। वह 73 वर्ष के थे। चार दशकों से ज्यादा के करियर में उन्होंने 1,500 मलयालम फिल्मी गीतों के लिए 400 से ज्यादा मलयालम फिल्मों के लिए गीत लिखे, जिनमें से कुछ अमर हिट में बदल गए। राजधानी उपनगर पूवाचल के रहने वाले, 1973 में उन्होंने मलयालम फिल्म उद्योग में प्रवेश किया और 2011 तक व्यस्त रहे। 

    मुख्यमंत्री पिनाराई विजयन ने खादर के निधन पर शोक व्यक्त किया और इसे राज्य के सामाजिक परिवेश के लिए एक बड़ी क्षति बताया. विजयन ने कहा, “वह शायद उस व्यक्ति के रूप में जाने जाएंगे, जिसने फिल्म उद्योग के लिए सबसे ज्यादा गीत लिखे हैं. उन्हें बहुत याद किया जाएगा.”

    राज्य के हर प्रमुख संगीतकार और गायक ने उनके गीतों का इस्तेमाल किया है, इसके अलावा उन्होंने मलयालम फिल्म उद्योग में सबसे बड़े हिट निर्माताओं के साथ काम किया है। उनका अंतिम संस्कार यहां बाद में मंगलवार को किया जाएगा। 

    खादर के लिखे गीतों में ‘‘पूमानामे (निराकुट्टू), ‘‘अनुरागिनी इथा एन’’ (ओरु कुडाक्कीझील), ‘‘इथो जनमा कल्पनायिल’’ (पालंगल), ‘‘नाथा नी वरुम’’ (चामाराम) और कई अन्य शामिल हैं।