Ketki Chitale
Photo- Instagram

    ठाणे : महाराष्ट्र (Maharashtra) में ठाणे (Thane) की एक अदालत (Court) ने बौद्ध धर्म (Buddhism) पर अपमानजनक बातें पोस्ट करने के आरोप में मराठी अभिनेत्री केतकी चिताले के खिलाफ नवी मुंबई द्वारा दो साल पहले दर्ज किए गए मामले में अभिनेत्री को सात जून तक न्यायिक हिरासत में भेज दिया है। नवी मुंबई की रबाले पुलिस ने मार्च 2020 में दर्ज मामले के सिलसिले में पिछले बृहस्पतिवार को अभिनेत्री को गिरफ्तार किया था। यह मामला अनुसूचित जाति एवं अनुसूचित जनजाति कानून के तहत दर्ज किया गया था। स्थानीय अदालत ने तब अभिनेत्री को 24 मई तक पुलिस हिरासत में भेज दिया था।

    चिताले के वकील ने बताया कि उन्हें मंगलवार को अदालत के समक्ष पेश किया गया जहां से उन्हें सात जून तक न्यायिक हिरासत में भेज दिया गया। आंबेडकर युवा संघ के सदस्य स्थानीय निवासी स्वप्निल जगताप ने दो साल पहले पुलिस को दी शिकायत में आरोप लगाया था कि उन्हें एक मार्च 2020 को चिताले के फेसबुक पोस्ट का एक स्क्रीनशॉट व्हाट्सऐप पर मिला था। स्क्रीनशॉट में डॉ बी आर आंबेडकर, उनकी पत्नी रमाबाई आंबेडकर और महात्मा ज्योतिबा फुले के खिलाफ कुछ आपत्तिजनक शब्द थे।

    चिताले के वकील योगेश देशपांडे ने मंगलवार को अदालत के बाहर संवाददाताओं से कहा कि वे महाराष्ट्र में अभिनेत्री के खिलाफ दर्ज सभी प्राथमिकियों को रद्द करने के लिए उच्च न्यायालय का दरवाजा खटखटाएंगे। उन्होंने कहा कि ठाणे की अदालत में अभिनेत्री की जमानत के लिए एक आवेदन दायर किया गया है। देशपांडे ने कहा कि राज्य के कैबिनेट मंत्री जितेंद्र आव्हाड ने भी चिताले के पोस्ट को रीट्वीट किया था, फिर अभिनेत्री के साथ अलग व्यवहार क्यों किया गया। फिल्म और टीवी अभिनेत्री चिताले को इस महीने की शुरू में राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी के प्रमुख शरद पवार के खिलाफ कथित रूप से आपत्तिनजक पोस्ट साझा करने के मामले में गिरफ्तार किया गया था। (एजेंसी)