तेज गति ट्रक पलटा; 1 मृत, 3 गंभीर

    • येलचिल मोड़ पर हुआ हादसा, चालक की मौके पर मौत

    अहेरी. एटापल्ली से धान का भूसा लेकर आ रहा तेज रफ्तार ट्रक अनियंत्रित होकर पलट गया. हादसे में ट्रक चालक की मौके पर ही मृत्यु हो गयी. वहीं 3 लोग गंभीर रूप से घायल हो गए. यह हादसा मंगलवार को दोपहर 3.30 बजे के दौरान आलापल्ली-एटापल्ली मार्ग स्थित येलचिल मोड़ पर हुआ. मृतक ट्रक चालक का नाम चंद्रपुर जिले के सिमडा निवासी नवनात शेंडे (38) है. अन्य तीन गंभीर घायलों में अनिल बावणे (50), प्रकाश मंदाडे (45) और मोरेश्वर कावले (45) का समावेश है. दुर्घटना में गंभीर रूप से घायल हुए सभी को उपचार के लिए अहेरी के उपजिला अस्पताल में भर्ती कराया गया है.

    बता दें कि, ट्रक चालक नवनात शेंडे व अन्य मजदूर एटापल्ली में धान का भूसा लेने के लिये एम. एच. 31 सीबी-6681 ट्रक लेकर गये थे. वहां पर ट्रक में धान का  भूसा भरने के बाद सभी ट्रक में सवार होकर आलापल्ली होते हुए चंद्रपुर जिले की ओर वापस जा रहे थे. इसी बीच एटापल्ली-आलापल्ली मार्ग पर स्थित येलचिल मोड़ पर ट्रक अनियंत्रित होकर सड़क किनारे पलट गया. जिसमें घटनास्थल पर ही ट्रक चालक शेंडे की मृत्यु हो गयी. अन्य तीन मजदूर गंभीर रूप से घायल हो गये.

    शिवसेना के पदाधिकारी बने राहत कर्मी

    येलचिल मोड़ पर ट्रक दुर्घटनाग्रस्त होकर चालक की मृत्यु होने तथा तीन मजदूर गंभीर रूप से घायल होने की जानकारी अहेरी के शिवसेना उपतहसील प्रमुख प्रफुल्ल येरणे को मिली. वह अपनी चौपहिया वाहन लेकर तत्काल घटनास्थल पर पहुंचे. वहीं सभी घायलों को उपचार के लिये अहेरी के उपजिला अस्पताल में भर्ती कराया गया. इसके बाद शिवसेना के अहेरी के जिलाप्रमुख रियाज शेख को मिली. जिसके बाद शेख समेत टायगर ग्रुप के आदर्श केसलवार, अशोक मद्देर्लावार, मल्लेश आलाम, हसन खान, सुरेंद्र अलोणे, शैलेश पटवर्धन आदि उपजिला अस्पताल में पहुंचकर घायलों को मदद की.

    मार्ग का नवीनीकरण करने की मांग पकड़ रही जोर

    यहां बता दें कि, पिछले 20 वर्षों से आलापल्ली-एटापल्ली इस प्रमुख मार्ग की हालत खस्ता हो गयी थी. जिससे इस मार्ग पर अनेक बार दुर्घटना घटने से लोगों को अपनी जान भी गंवानी पड़ी. ऐसे में 20 वर्षों की कालावधि के बाद सुरजागड़ पहाड़ी पर काम करनेवाली त्रिवेणी नामक कंपनी द्वारा हाल ही में इस मुख्य मार्ग का नवीनीकरण करने का कार्य शुरू किया गया है. लेकिन बारिश के चलते निर्माणकार्य की गति काफी धीमी हो गयी है, जिसके कारण हादसे हो रहे हैं. मंगलवार को हुए इस हादसे की गंभीरता को संज्ञान में लेकर तत्काल उक्त मार्ग का नवीनीकरण करने की मांग परिसर के नागरिकों द्वारा की जा रही है.