Corona Virus

    गड़चिरोली. कोरोना महामारी के दुसरे लहर ने जिले में कहर बरपा दिया था. अप्रैल माह से संक्रमितों की संख्या में भारी वृद्धि देखी गई. वहीं कोरोना से मृत्यू का आंकड़ा भी बढ़ता गया. जिले की जनसंख्या अन्य जिलों की तुलना में कम है, इसके बावजूद जिले में भारी मात्रा में कोरोना संक्रमित पाएं जाने के कारण गडचिरोली जिला कोरोना के रेड़ झोन में है. राज्य सरकार ने रेड़झोनवाले 15 जिले की सूचि प्रसिद्ध की है. जिसमें गड़चिरोली जिले का भी समावेश है. जिस कारण आगामी अनलॉक के तहत मिलनेवाली शिथीलता जिले में नहीं रहने की बात कहीं जा रही है. 

    राज्य के आखरी छोर पर बसा गड़चिरोली जिला वनव्याप्त जिला है. यहां जनसंख्या का प्रमाण अन्य जिलों की तुलना में कम है. बिते वर्ष कोरोना महामारी के दौरान जिला ग्रीन झोन में था. मात्र कोरोना महामारी के दुसरे लहर में बिते 2 माह में गड़चिरोली जिले में तेजी से संक्रमितों की संख्या बढ़ने के कारण गड़चिरोली जिला रेड़ झोन में आ गया है. राज्य के रेड़ झोनवाले जिलों की सूचित घोषित की गई है.

    जिसमें बुलढ़ाणा, रत्नागिरी, सांगली, यवतमाल, अमरावति, सिंदुदुर्ग, सोलापूर, अकोला, सातारा, वाशिम, बीड, अहमदनगर, उस्मानाबाद के साथ ही गड़चिरोली जिले का भी समावेश है. राज्य में कोरोना का प्रमाण कम होता देख राज्य सरकार चरणबद्ध रूप से कुछ शिथिलता प्रदान करने के विचार में है. मात्र गड़चिरोली जिला रेड़ झोन में होने के कारण जिले को अभी कुछ दिनों तक रियायत नहीं मिलेगी, ऐसी बात कहीं जा रही है.