Dhaan
File Photo

सालेकसा. तहसील में धान की कटाई के बाद मलनी के काम शुरू हो गए है. आगामी कुछ ही दिनों में दिवाली है. जिससे किसान धान की बिक्री कर दिवाली पर्व मनाते हैं, किंतु अब तक धान खरीदी केंद्र शुरू नहीं होने से किसान कम भाव पर व्यापारियों को धान बेच रहे हैं. जिससे तत्काल धान खरीदी केंद्र शुरू करने की मांग किसानों ने की है.

सालेकसा तहसील शासन व प्रशासन की उदासीनता से आज भी पिछड़ी है. जिससे तहसील के सर्व सामान्य नागरिक विकास से दूर हैं. आज भी पारंपारिक रीति-रिवाज, उद्योग व्यवसाय के आधार पर अपना जीवनयापन निर्वाह कर रहे हैं. इसमें से एक धान फसल की खेती है. इस क्षेत्र के किसान अल्प भूधारक है. इस तहसील के कुछ स्थानों पर सिंचाई की सुविधा उपलब्ध नहीं हो रही है. जिससे किसान बारिश के पानी पर निर्भर है.

कम दाम में बेच रहे धान

जिससे तहसील में 80 से 110 दिनों की कम अवधि वाले धान की फसल ली जाती है. इसमें अक्टूबर में किसानों के खेत से धान घरों तक पहुंच जाता है.  इस बार भी किसानों ने कटाई पूर्ण कर धान फसल तैयार की है, लेकिन दिवाली के पूर्व धान खरीदी केंद्र शुरू नहीं होने से किसानों को अपना धान व्यापारियों को कम भाव में बिक्री करने के लिए मजबूर होना पड़ रहा है. इस क्षेत्र के किसानों ने शासन से तत्काल धान खरीदी केंद्र शुरू करने की मांग की है.