घर के बुजुर्गों को रखना है फिट? उनकी डाइट में शामिल करें ये चमत्कारी आयुर्वेदिक चीजें

-सीमा कुमारी

हमारे बुजुर्ग (The Elderly) हम सभी के लिए हमारी पूरी दुनिया (Whole World) होते हैं। चाहे वो किसी भी रूप में हो माता-पिता (Mother-Father), दादा-दादी (Grandfather-Grandmother), नाना-नानी अनेकों रिश्ते होते हैं। ऐसे वक्त में जब देश-दुनिया में महामारी (Epidemic) फैली हुई है, तब बुजुर्गों का ध्यान रखना बेहद जरूरी है। ये इसलिए इतना जरूरी है क्योंकि उम्र बढ़ने के साथ उनकी इम्यूनिटी (Imunity) धीरे-धीरे कमजोर (Weak) हो जाती है, जिससे वो आसानी से किसी भी बिमारी के सम्पर्क में आ सकते हैं। साथ ही उन्हें पहले से ही डायबिटीज (Diabetes), अर्थराइटिस (Arthritis) और हाई बीपी (High BP) समेत कई सारी बीमारियां हो सकती हैं। ऐसे में सबसे ज्यादा जरूरी है कि उनकी डाइट (Diet) को ठीक किया जाए। इसके लिए हम कुछ आयुर्वेदिक (Ayurvedic) चीजों को उनकी रोजाना डाइट में शामिल कर सकते हैं, जो उनकी इम्यूनिटी बिल्डअप (Imunity Buildup) करेगी और उन्हें बीमारियों से लड़ने के लिए शक्ति प्रदान करेगी। तो आइए जानते हैं इन आयुर्वेदिक चीजों के बारे में…

सुबह का शुरुआत करें खाली पेट मेथी के बीज-

मेथी के बीजों को रात भर भिगो कर सुबह इसके पानी को छान ले और खाली पेट पिने को देना चाहिए  मेथी के बीज का पानी मधुमेह का प्रबंधन करने, दिल के स्वास्थ्य को बढ़ावा देने और ऑक्सीडेटिव तनाव को कम करने में मदद कर सकता है। साथ ही ये मांसपेशियों में दर्द को शांत कर सकता है और लीवर और गुर्दे के कार्य को सही रखता है। इससे शरीर में सूजन आदि की परेशानी नहीं होती है।

खाना पचाने के लिए सौंफ-

बुढ़ापे के साथ हमारा पाचन तंत्र कमजोर होने लगता है। ऐसे में हर बार खाने के बाद अपने बुजुर्गों को थोड़ा सा सौंफ खाने को दें या आप इसका पानी भी उन्हें दे सकते हैं। ये पाचन में सुधार करने के साथ , रक्तचाप को नियंत्रित करना और अस्थमा के लक्षणों को कम करने में भी कारगार है। सौंफ के बीज में विटामिन ए भी होता है, जो आंखों की रोशनी को बेहतर बनाने में मदद करता हैं। इसलिए, अपने बुजुर्गों को मुट्ठी भर सौंफ चबाने दें या बस उन्हें पानी में उबालकर इसका पानी पीने को दें।

तुलसी की पत्ती की चाय-

क्या आपको वो दिन याद है जब आपकी दादी या नानी  आपको अच्छे स्वास्थ्य के लिए तुलसी का सेवन कराती थीं? तो अब आपकी बरी है अपने बुजुर्गों के लिए यह नुस्खा देने की तुलसी का सेवन प्रतिरक्षा में सुधार कर सकता है, रक्तचाप को नियंत्रित कर सकता है। साथ ही मधुमेह को रोक सकता है और पाचन तंत्र को मजबूत कर सकता है। साथ अगर उन्हें अस्थमा की शिकायत है तो इस तरह के श्वसन रोगों को भी ये रोक सकता है। इसके लिए उनकी रोज सुबह चाय में कुछ तुलसी के पत्ते मिला दें। ये उन्हें संक्रमण से दूर और हेल्दी रखेंगे।

अगर मीठे की शौकीन हैं तो खिलाएं तिल के लड्डू-

हड्डी की समस्याएं जैसे कि जोड़ों का दर्द और कमजोर हड्डियां जो फ्रैक्चर और चोटों के लिए अधिक संवेदनशील होती हैं, ये सब बुढ़ापे में आपको बहुत परेशान कर सकती हैं। इन सभी परेशानियों से बचने के लिए आयुर्वेद के प्राचीन विज्ञान तिल के बीज का सेवन करने या बस उन्हें रात भर पानी में भिगोकर रखने और सुबह में पानी पीने की सलाह देता है। पर हो सकता है आपके बुजुर्गों इसे पसंद न करें। तो उन्हें आप तिल और गुड का लड्डू बना कर दे सकते हैं। ये कैल्शियम से भरपूर है, जो हड्डियों के स्वास्थ्य को बढ़ावा देने के लिए जाना जाता है। इसके अलावा, ये एंटीऑक्सिडेंट, खनिज, विटामिन और प्रोटीन से भरपूर होते हैं जो किसी के संपूर्ण स्वास्थ्य को बढ़ावा दे सकते हैं।