RAM-MANDIR

    लखनऊ. एक बड़ी खबर के अनुसार, अब श्री राम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट (Shri Ram Janmbhumi Trust) पर भ्रष्टाचार के गंभीर आरोप लगे हैं। जहाँ सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) के ऐतिहासिक फैसले के बाद उत्तर प्रदेश के अयोध्या (Ayodhya) में भव्य राम मंदिर (Ram Temple) का निर्माण कार्य अब जोर शोर से चल रहा है। वहीं लोगों ने भी भव्य राम मंदिर के निर्माण के लिए दिल खोलकर दान-कर्म  दिया है। 

    इतना ही नहीं देश के हर हिस्से से लोगों ने करोड़ों रूपये दान के रूप में दिए हैं। इसके बाद श्री राम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट भी अपनी तरफ से मंदिर का स्वरूप भव्य बनाने के लिए हर संभव कोशिशें कर रहा है। लेकिन इसी बीच अब इस ट्रस्ट पर ही मंदिर के लिए जमीन खरीदी को लेकर भ्रष्टाचार के गंभीर आरोप लगे हैं। इसके साथ ही राम मंदिर ट्रस्ट में भी उठे जमीन खरीद पर सवाल उठने के बाद अब CM योगी ने भी इस बाबत विस्तृत रिपोर्ट मांगी है। 

    दरअसल अयोध्या में श्रीराम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट की ओर से राम मंदिर निर्माण के लिए खरीदी गई जमीन को लेकर लगे घोटाले के आरोपों पर अब विवाद बढ़ता ही जा रहा है। इस दो करोड़ की जमीन को 18।5 करोड़ में खरीदने को लेकर अब ट्रस्ट के सदस्य भी इस पर सवाल उठाने लगे हैं। वहीं, अब डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्य ने मोर्चा सम्हालते हुए कहा है कि अगर यह सारे आरोप साबित हो जाते हैं तो दोषियों पर निश्चित रूप से कड़ी कार्रवाई होगी।

    गौरतलब है कि जमीन विवाद का मुद्दा उछलने के बाद से ही अब ट्रस्ट में ही आपसी विवाद शुरू हो गया है। जहाँ कमलनयन दास ने इस विवाद पर ट्रस्ट पर ही सवाल उठाते हुए मामले की अनदेखी का आरोप लगाया है। बता दें कि राम जन्मभूमि ट्रस्ट के अध्यक्ष महंत नृत्य गोपालदास हैं लेकिन वो फिलहाल बीमार चल रहे हैं। जिसके चलते उन्होंने कमलनयन दास को अपना उत्तराधिकारी घोषित कर रखा है। वहीं आज यानी मंगलवार को डिप्टी CM केशव प्रसाद मौर्य ने मंगलवार को जमीन विवाद को लेकर तीन ट्वीट किए और घोटाले का आरोप लगाने वालों को रामद्रोही भी बताया।

    उन्होंने ट्वीट कर कहा कि “रामलला का भव्य मंदिर निर्माण कुछ राम द्रोहियों को बर्दाश्त नहीं हो रहा।” इसके साथ उन्होंने अगले ट्वीट में उन्होंने लिखा कि “राम भक्तों को राम द्रोही उपदेश न दें।” इधर उक्त जमीन करीद विवाद परअब चंपत राय भी कूद पड़े, उनका कहना है कि, “सारे आरोप भ्रामक हैं और लोगों को किसी प्रकार के झांसे में नहीं आना चाहिए।” फिलहाल मामला बढ़ता देख CM योगी ने भी इस बाबत विस्तृत रिपोर्ट मांगी है।