Amit Shah
PTI Photo

कोलकता: भारतीय जनता पार्टी (Bhartiya Janta Party) के राष्ट्रीय अध्यक्ष जगत प्रकाश नड्डा (Jagat Prakash Nadda) के काफिले पर हुए हमले को लेकर केंद्र सरकार (Central Government) सख्त हो गई है. केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह (Amit Shah) ने मामले की निंदा करते हुए मामले की जांच करने का आदेश दिया है. इसी के साथ उन्होंने तृणमूल कांग्रेस सरकार (Trinamool Congress Government) पर हमला बोला है।  

प्रायोजित हिंसा के लिए प्रदेश की शांतिप्रिय जवाब

अमित शाह ने मामलों को लेकर ट्वीट करते हुए कहा, “आज बंगाल में भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष श्री जेपी नड्डा जी के ऊपर हुआ हमला बहुत ही निंदनीय है, उसकी जितनी भी निंदा की जाये वो कम है। केंद्र सरकार इस हमले को पूरी गंभीरता से ले रही है। बंगाल सरकार को इस प्रायोजित हिंसा के लिए प्रदेश की शांतिप्रिय जनता को जवाब देना होगा।”

बंगाल में अत्याचार, अराजकता और अंधकार

वहीं एक अन्य ट्वीट में शाह ने कहा, “तृणमूल शासन में बंगाल अत्याचार, अराजकता और अंधकार के युग में जा चुका है। टीएमसी के राज में पश्चिम बंगाल के अंदर जिस तरह से राजनीतिक हिंसा को संस्थागत कर चरम सीमा पर पहुँचाया गया है, वो लोकतांत्रिक मूल्यों में विश्वास रखने वाले सभी लोगों के लिए दु:खद भी है और चिंताजनक भी।”

दो दिन के दौरे पर पश्चिम बंगाल पहुंचे हैं नड्डा

ज्ञात हो कि भाजपा अध्यक्ष नड्डा दो दिन के दौरे पर पश्चिम बंगाल पहुंचे हैं। अपने दौरे के दूसरे दिन नड्डा ममता बैनर्जी के भतीजे और सांसद अभिषेक बैनर्जी के संसदीय क्षेत्र डायमंड हार्बर में रैली को संबोधित करने जारहे थे। इस दौरान सड़क पर मौजूद टीएमसी कार्यकर्ताओं ने काफिले को घेर लिए और काले झंडे दिखाने लगे। 

इसी दौरान वह भीड़ में मौजूद कुछ लोगों ने काफिले पर पत्थर और ईंट फेंकने लगे. अचानक हुई इस हमले में नड्डा की गाडी बच गई, लेकिन पीछे आरहे पार्टी महासचिव कैलाश विजयवर्गीय की गाडी के कांच चकना चूर हो गए। इस दौरान कार में बैठे कैलाश, उनके ड्राइवर और पार्टी के रष्ट्रीय उपाध्यक्ष मुकुल रॉय घायल हो गए।  

अराजकता और असहिष्णु वाली सरकार

डायमंड हार्बर में आयोजित रैली को संबोधित करते हुए जे.पी. नड्डा ने ममता सरकार पर हमला बोला. उन्होंने कहा, “बंगाल जो अपनी संस्कृति, संस्कार के लिए जाना जाता है। ऐसे बंगाल में जिस तरह से ममता बनर्जी की अराजकता वाली सरकार है और अराजकता के साथ-साथ असहिष्णु सरकार है उसकी तस्वीर हमें आज देखने को मिल रही है।”