Javadekar and Rahul Gandhi

    नयी दिल्ली. टीकाकरण अभियान (Vaccination campaign) को लेकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) की आलोचना के लिए पूर्व कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी (Rahul Gandhi) को आड़े हाथों लेते हुए शुक्रवार को कहा कि विपक्षी नेता ने जिस प्रकार की भाषा का इस्तेमाल किया और लोगों के मन में “भय” पैदा करने की कोशिश की, उससे स्पष्ट हो गया कि “टूलकिट” (Toolkit) भी उनकी पार्टी की ओर से ही निर्मित की गई थी। केंद्रीय मंत्री व भाजपा के वरिष्ठ नेता प्रकाश जावड़ेकर ने यहां संवाददाता सम्मेलन में केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के हालिया बयानों का उल्लेख करते हुए दावा किया कि देश में टीकाकरण इस साल दिसंबर तक पूरा कर लिया जाएगा।

    उन्होंने कहा कि स्वास्थ्य मंत्रालय ने दिसंबर तक भारत में 216 करोड़ नए टीकों के उत्पादन और कैसे 108 करोड़ से भी ज्यादा लोगों को यह लगाया जाएगा, उसकी रूपरेखा तैयार की है। जावड़ेकर ने कहा कि प्रधानमंत्री देश की जनता के साथ मिलकर कोरोना महामारी का सामना कर रहे हैं और ऐसे समय में राहुल गांधी, सरकार द्वारा किये गए प्रयासों के लिए “नौटंकी” शब्द का उपयोग करते हैं। उन्होंने कहा, ‘‘यह देश और देश की जनता का अपमान है। ऐसे शब्दों का इस्तेमाल हम नहीं करेंगे क्योंकि उनकी नौटंकी जनता ने कब की बंद कर दी है।”

    उन्होंने कहा, “आपका बयान देखकर यह बात पक्की हो गई कि… अब सबूत की जरूरत नहीं… टूलकिट आपके द्वारा ही निर्मित है… यह बात साफ हो गई है, क्योंकि जिस तरह की भाषा, जिस तरह का तर्क और जिस प्रकार आपने भ्रम और भय फैलाने की लोगों में कोशिश की, वह उसी रणनीति का हिस्सा है।”

    ज्ञात हो कि कथित “टूलकिट” को कांग्रेस के षड्यंत्र का हिस्सा बताते हुए भाजपा ने पिछले दिनों राहुल गांधी और विपक्षी दल पर निशाना साधा था। हालांकि, कांग्रेस ने इन आरोपों को भाजपा की साजिश का हिस्सा बताते हुए पुलिस में इस मामले की शिकायत कर जांच की मांग की थी।

    राहुल गांधी के धीमे टीकाकरण अभियान के आरोपों को खारिज करते हुए जावड़ेकर ने कहा कि भारत ने अब तक 20 करोड़ से अधिक लोगों का कोरोना रोधी टीकों की खुराक दे दी है। उन्होंने कहा कि भारत सबसे तेज और सबसे ज्यादा टीकाकरण करने वाला आज दुनिया का दूसरा देश है। भाजपा नेता ने कहा कि टीकाकरण को लेकर केंद्र सरकार पर आक्षेप लगाने के बजाय राहुल गांधी को अपना ध्यान कांग्रेस शासित राज्यों पर देना चाहिए क्योंकि टीका उत्पादकों से वह अपने हिस्से का टीका भी नहीं ले पा रहे हैं। उन्होंने कहा कि राहुल गांधी का पूरा जोर टीकाकरण पर रहा ओर केंद्र सरकार भी वही कहती रही है और करती आ रही है।

    जावड़ेकर ने कहा कि इसी के तहत भारत ने दो टीकों का उत्पादन किया। इनमें कोवैक्सीन का उत्पादन घरेलू स्तर पर हुआ। उन्होंने कहा, ‘‘अगर आपको टीकों का महत्त्व आज समझ आ रहा है तो जब कोवैक्सीन आयी थी तब उसपर आपने प्रश्नचिन्ह क्यों लगाया था। लोगों के मन में भ्रम ना उत्पन्न करें। प्रधानमंत्री जी ने खुद कोवैक्सीन ली, तब भी आपकी नौटंकी बंद नहीं हुई।”

    केंद्रीय मंत्री ने कहा कि पूर्व कांग्रेस अध्यक्ष को राजस्थान पर ध्यान देना चाहिये, जहां आये दिन बलात्कार हो रहे हैं, लेकिन किसी को सजा तक नहीं हो रही है। उन्होंने कहा, “हमारी सांसद रंजीता कोली की गाड़ी पर हमला किया गया क्योंकि वह रोज प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र जाकर हालातों का जायजा लेती थीं। घुमंतू जातियों की झोपड़ियां क्यों गिराई, इस पर ध्यान दीजिये।”

    इससे पहले, राहुल गांधी ने देश में कोरोना वायरस की दूसरी लहर के लिए प्रधानमंत्री को जिम्मेदार ठहराते हुए आरोप लगाया कि मोदी ने अपनी जिम्मेदारी नहीं निभाई और जो ‘नौटंकी’ की, उस कारण ये हालात पैदा हुए। उन्होंने आगाह करते हुए यह भी कहा कि अगर मौजूदा गति से टीकाकरण हुआ तो आगे तीसरी, चौथी और पांचवीं लहर भी आएगी क्योंकि वायरस का स्वरूप बदलता जाएगा।

    राहुल गांधी ने कहा कि सरकार को कोरोना से होने वाली मौतों को लेकर ‘झूठ बोलने’ की जगह देश को सच्चाई बतानी चाहिए तथा विपक्ष के सुझावों को सुनकर और पूरे देश को साथ लेकर कोरोना वायरस से निपटने की रणनीति बनानी चाहिए। कांग्रेस नेता ने यह दावा भी किया कि प्रधानमंत्री और केंद्र सरकार आज तक कोरोना वायरस एवं इसके स्वरूपों को नहीं समझ पाए तथा पिछले साल फरवरी में ही अगर कांग्रेस की बातों को सुन लिया होता, तो लाखों लोगों की जान नहीं जाती। (एजेंसी)