jodhpur

    नयी दिल्ली. जहाँ देश (India) कोरोना कि दूसरी लहर से बमुश्किल लड़ रहा है । वहीं अब राजस्‍थान (Rajasthan) के जोधपुर (Jodhpur) में कोरोना संक्रमण (Corona Pandemic) का रोज अपना ही एक नया रिकॉर्ड बन रहा है। इस शहर में CMHO की रिपोर्ट के अनुसार, अब नए 770 कोरोना संकमण के मामले सामने आए, इसके साथ ही 4 मरीजो की ओर कोरोना संक्रमण से मौत हो गई। अब हालात इस कदर यहां बिगड़े हैं कि अब शहर में हर दो मिनट में एक व्यक्ति कोरोना पॉजिटिव होने लगा है या तो फिर मिलने लगा है।

    IIT के बाद अब हॉस्टल में मिले 22 स्टूडेंट्स पॉजिटिव:

    जहानेक तरफ जोधपुर आईआईटी में एक के बाद एक 74 कोरोना पॉजिटिव स्टूडेंट्स की संख्या आने के बाद अब इसी शहर के राजपुरोहित समाज के हॉस्टल में भी कोरोना का भयंकर तांडव सामने आया है। बताया जा रहा है कि राजपुरोहित समाज के हॉस्टल में रहने वाले 22 स्टूडेंट में कोरोना संक्रमण की पुष्टि हुई है। इस हॉस्टल में कोरोना विस्फोट होने के बाद अब इसे  कंटेनमेंट जोन घोषित कर दिया है। इसके साथ ही सभी 22 स्टूडेंट को हॉस्टल में ही अब आइसोलेट किया गया है।

    कोविड वैक्सीन के बाद अब रेमडेसिविर इंजेक्शन की भी कमी:

    सबसे बड़ी समस्या यह है कि जोधपुर शहर में जहां कोरोना वैक्सीन का स्टॉक खत्म हो होने का मामला अभी खत्म भी नहीं हुआ कि कोरोना के गंभीर मरीजों के लिए रामबाण दवा साबित हुए इंजेक्शन रेमडेसिविर की भी अब भयंकर कमी होने लगी है। बाजार में तो यह यह इंजेक्शन उपलब्ध नहीं है। सिर्फ सरकारी अस्पतालों में ही यह इंजेक्शन मिल रहा है, लेकिन सरकारी अस्पतालों में भी भी धीरे धीरे इंजेक्शन की कमी होने लगी है। इस प्रकार राजस्थान का जोधपुर शहर अभी कोरोना कि विकट स्तिथि में फंसा हुआ है और गहलोत सरकार भी असहाय सी खड़ी है।