modi-shah

नयी दिल्ली. एक खबर के मुताबिक PM नरेन्द्र मोदी (Narendra Modi) की कुल जमा संपत्ति 30 जून, 2020 को बढ़कर 2.85 करोड़ रुपये हो गई है। अगर देखें तो साल 2019 के मुकाबले इसमें 36 लाख रुपये की बढ़त भी इस बार देखने को मिली है। वहीं दूसरी तरफ देश के गृह मंत्री अमित शाह (Amit Shah)  को शेयर-बाजार के उतार चढ़ाव के चलते नुकसान ही हुआ है। वहीं रक्षामंत्री राजनाथ सिंह (Rajnath Singh) कि आर्थिक दशा में कोई फर्क नहीं आया है। 

बता दें कि अब नियम के तहत कैबिनेट मंत्रियों सहित प्रधानमंत्री द्वारा भी खुद कि संपत्ति की घोषणा करना अनिवार्य किया गया गया है। तो आइये देखते हैं कैसे PM मोदी और उनके ख़ास लोगों  की संपत्ति में इजाफा हुआ भी है या नहीं ।

क्या थी PM मोदी की बीते वर्ष की कमाई :

बीते वर्ष PM मोदी कि संपत्ति जहाँ 2.49 करोड़ रुपये आंकी गयी थी। वहीं PM मोदी कि संपत्ति बैंकों और कई अन्य कई सुरक्षित साधनों में करीब निवेश से बढ़ी है। जहाँ बैंकों से उन्हें  3.3 लाख रिटर्न मिला है तो अन्य साधनों से उन्हें करीब 33 लाख रुपये की आमदनी हुई है।

कितनी नकदी है PM मोदी के पास :

 साल 2020 के जून महीने तक मोदी के पास सिर्फ  31,450 रुपये की नकदी थी। इसके साथ ही भारतीय स्टेट बैंक (SBI) के NSC खाते में 3,38,173 रुपये उनके पास जमा हैं। वहीं इस खाते से जुड़े FDR और MOD में उनके पास करीब  1,60,28,939 रुपये जमा हैं।  इसके साथ ही डाक विभाग की नेशनल सेविंग्स सर्टिफिकेट (NSC) में करीब 8,43,124 रुपये कि आमद उनके पास है। इसके साथ ही उन्होंने जीवन बीमा पॉलिसी में 1,50,957 रुपये और टैक्स सेविंग्स इन्फ्रा बॉन्ड में 20,000 रुपये के करीब निवेश कर रखा है। इस तरह देखा जाए तो उनकी नकदी/चल संपत्ति करीब 1.75 करोड़ रुपये की है।

PM मोदी का नहीं है कोई निजी वाहन :

यह भी बता दें कि PM मोदी ने अब तक कोई निजी लोन नहीं लिया है और नहीं ही उनका कोई निजी वहां है। उनके पास करीब 45 ग्राम की सोने से निर्मित चार अंगूठियां हैं, जिनका अनुमानित मूल्य करीब 1.5 लाख रुपये ही है।  

PM मोदी के अचल संपत्तियों का ब्यौरा : 

अगर अचल संपत्तियों की बात करें तो PM मोदी के पास जॉइंट ओनरशिप में गांधीनगर के सेक्टर-1 में करीब 3531 वर्ग फुट का एक प्लॉट है । इसमें उनके साथ 3 लोगों के संयुक्त नाम में है और बाकी 3 अन्य लोगों की हिस्सेदारी 25-25 % दिखाई गयी है। इस प्रॉपर्टी को  25 अक्टूबर 2002 में खरीदी गई थी। वह भी गुजरात के मुख्यमंत्री बनने के 2 महीने पहले यह क्रय किया गया था। तब बताया जाता है इसकी लागत सिर्फ 1।3 लाख रुपये के करीब थी। इस तरह देखें तो PM की कुल अचल सं​पत्ति की कीमत 1.10 करोड़ रुपये आंकी गयी है।

कितनी संपत्ति है गृह मंत्री अमित शाह के पास : 

वहीं दूसरी तरफ अमित शाह एक धनी गुजराती परिवार से ताल्लुक रखते हैं। लेकिन उन्हें शेयर बाजार के उतार-चढ़ाव से थोडा नुकसान भी हुआ है। जहाँ जून 2020 तक अमित शाह ने 28.63 करोड़ रुपये की घोषित संपत्ति बताई है। वहीं पिछले साल BJPअध्यक्ष के हैसियत से उन्होंने अपनी संपत्ति 32.3 करोड़ बताई थी। 

अमित शाह की अचल संपत्तियों का ब्यौरा :

अब तक अमिता शाह कुल 10 अचल संपत्तियों के मालिक हैं। उन्हें अपनी माँ से विरासत स्वरुप 13.56 करोड़ रुपये की संपत्ति प्राप्त हुई । लेकिन देश की सबसे धनी पार्टी के अध्यक्ष पद पर रहने के बावजूद उनके पास केवल  15,814 रुपये की नकदी स्वरुप है। वहीं उनके बैंक खातों में 1.04 करोड़ रुपये, बीमा और पेंशन पॉलिसी में 13.47 लाख रुपये, FD में 2.79 लाख रुपये बताये गए हैं। इसके अलावा वे  करीब 44.47 लाख रुपये की ज्वैलरी के मालिक हैं। 

शेयर बाजार से हुआ नुकसान :

बीते वर्ष की अपेक्षा उनकी संपत्ति में आई कमी मुख्यत: शेयर बाजार में आई गिरावट के कारण है। उनके पास विरासत में प्राप्त 12.10 करोड़ रुपये की प्रतिभूतियां (शेयर आदि) और उन्होंने खुद 1.4 करोड़ रुपये शेयर बाजार में  में निवेश किया है। इस तरह इस साल 2020 के  31 मार्च तक उनके पास कुल 13.5 करोड़ रुपये की शेयर प्रतिभूतियां थीं, जबकि पिछले साल इन्ही की कीमत 17.9 करोड़ रुपये आंकी गयी  थीं। इसीके साथ शाह के पास 15.77 लाख रुपये की देनदारी भी फिलहाल बाकी है। 

धर्म पत्नी सोनल अमित शाह भी नुकसान में : 

वही अमित शाह कि धर्म पत्नी सोनल अमित शाह का कुल नेटवर्थ भी पिछले साल के 9 करोड़ रुपये की अपेक्षा इस वर्ष  गिरकर सिर्फ 8.53 करोड़ रुपये ही रह गया है। उनके पास रेक शेयर प्रतिभूतियों कि बाजार कीमत  4.4 करोड़ रुपये से घटकर 2.25 करोड़ रुपये पर आकर टिक गयी हैं।

रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह के संपत्तियों का ब्यौरा : 

इसी प्रकार रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह की संपत्ति में भी पिछले साल की अपेक्षा कोई ज्यादा फेर-बदल नहीं है। फिलहाल वे  1.97 करोड़ रुपये की चल संपत्ति और 2.97 करोड़ रुपये की अचल संपत्ति के मालिक हैं। इसके अलावा उन्होंने  शेयर बाजार, LIC या पेंशन पॉलिसी  जैसा कोई भी निवेश नहीं किया हुआ है।