Rafael fighters rock the skies on Airforce Day

नई दिल्ली: भारतीय वायु सेना आज अपनी 88 वीं वर्षगांठ मना रही है। दिल्ली के पास हिंडन में वायु सेना स्टेशन में एक भव्य परेड-सह-निवेश समारोह आयोजित किया गया। हिंडन एयरबेस के आसमान ने राफेल लड़ाकू विमानों ने करतब दिखाए। पांच राफेल फाइटर जेट्स को औपचारिक रूप से 10 सितंबर को भारतीय वायु सेना की क्षमता बढ़ाने के लिए वायुसेना में शामिल किया गया था। 

राफेल के आने से भारतीय वायुसेना को पाकिस्तान और चीन पर बड़ी बढ़त मिल गई है। भारत ने फ्रांस से 36 राफेल विमान खरीदे हैं, जिनमें से 30 विमान लड़ाकू जबकि छह प्रशिक्षक विमान है। पहाड़ी इलाकों में और लद्दाख जैसे मुश्किल हालात में राफेल और भी घातक साबित होता है। 29 जुलाई को 5 राफेल जेट भारत पहुंचे थे।

प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी ने भारतीय वायु सेना (IAF) के ‘बहादुर योद्धाओं’ को शुभकामनाएं दीं। पीएम मोदी ने ट्वीट किया “एयर फोर्स डे पर भारतीय वायुसेना के सभी वीर योद्धाओं को बहुत-बहुत बधाई। आप न सिर्फ देश के आसमान को सुरक्षित रखते हैं, बल्कि आपदा के समय मानवता की सेवा में भी अग्रणी भूमिका निभाते हैं। मां भारती की रक्षा के लिए आपका साहस, शौर्य और समर्पण हर किसी को प्रेरित करने वाला है।”

रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने कहा कि “एयर फोर्स डे पर भारतीय वायुसेना के सभी वीर योद्धाओं को बहुत-बहुत बधाई। आप न सिर्फ देश के आसमान को सुरक्षित रखते हैं, बल्कि आपदा के समय मानवता की सेवा में भी अग्रणी भूमिका निभाते हैं। मां भारती की रक्षा के लिए आपका साहस, शौर्य और समर्पण हर किसी को प्रेरित करने वाला है।”

एयर चीफ मार्शल आरकेएस भदौरिया ने वायुसेना दिवस के अवसर पर कहा, ‘उत्तरी सीमाओं पर हाल के गतिरोध के दौरान त्वरित प्रतिक्रिया देने के लिए मैं सभी वायु योद्धाओं की सराहना करता हूं, तब हमने किसी भी तरह के हालात से निपटने के लिए अपने लड़ाकू साजो सामान को अल्प सूचना पर तैनात किया तथा भारतीय सेना के लिए तैनाती और जीवनाधार की सभी आवश्यकताओं के लिए सक्रिय समर्थन प्रदान किया.’ उन्होंने कहा कि हाल ही में बेड़े में शामिल राफेल, चिनूक और अपाचे जंगी विमानों से शत्रुओं से मुकाबला करने की हमारी क्षमता में उल्लेखनीय इजाफा हुआ है. वायुसेना प्रमुख ने कहा, ‘हमने अपने संकल्प, अपनी संचालन क्षमता और प्रतिकूल परिस्थितियों से प्रभावी ढंग से निपटने की इच्छाशक्ति का स्पष्ट रूप से प्रदर्शन किया है.’

इस बार परेड में कुल 56 एयरक्राफ्ट्स ने हिस्सा लिया। फ्लाइ पास्ट में राफेल के अलावा, लाइट कॉम्बैट एयरक्राफ्ट तेजस, जगुआर, मिग-29, मिग-21, सुखोई-30 भी शामिल हुए। भारतीय वायु सेना 1932 में तत्कालीन ब्रिटिश शासन के तहत शाही भारतीय वायु सेना के रूप में लागू हुई। 1950 में नाम बदलकर भारतीय वायु सेना कर दिया गया।