पंजाब कांग्रेस में सुलह! प्रियंका के फॉर्मूले पर राजी हुए सिद्धू, राहुल गांधी से मिलने पहुंचे

    नई दिल्ली: पंजाब कांग्रेस (Punjab Congress) में शुरू कलह थमते नजर आ रही है। कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी (Priyanka Gandhi) और नवजोत सिंह सिद्धू (Navjoot Singh Sidhu) के बीच हुई मुलाकात के बाद दिए फॉर्मूले पर सिद्धू राजी हो गए हैं। जिसके मद्देनजर जल्द ही सिद्धू को कांग्रेस (Congress) में बड़ी जिम्मेदारी दी जाएगी। इसी बीच सिद्धू कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी (Rahul Gandhi) से मिलने उनके आवास पर पहुंचे हैं। 

    मिली जानकारी के अनुसार, सिद्धू और प्रियंका के बीच करीब दो घंटे से ज्यादा समय तक बैठक चली। इस बैठक में प्रियंका ने सिद्धू के सामने एक फार्मूला रखा, जिसपर वह राजी हो गए हैं। फॉर्मूले के अनुसार कांग्रेस जल्द ही सिद्धू कोई बड़ी जिम्मेदारी देगी। जिसकी घोषणा 48 घंटे के अंदर प्रेस कॉन्फ्रेंस कर दी जाएगी। 

    इसके पहले सिद्धू ने प्रियंका गांधी से मुलाकात की एक फोटो की. सिद्धू ने अपने ट्वीट में लिखा, “प्रियंका गांधी जी के साथ एक लंबी मुलाकात”

    अमरिंदर ने समर्थक विधायकों को खाने पर बुलाया

    सिद्धू को बड़ी जिम्मेदारी देने की ख़बर के बीच कैप्टन अमरिंदर सिंह ने भी अपनी ताकत दिखाने की तैयारी शुरू कर दी है. अमरिंदर ने अपने सभी समर्थक विधायकों को गुरुवार को अपने घर खाने पर बुलाया है. मुख्यमंत्री का यह कदम केंद्रीय नेतृत्व को अपनी ताकत दिखाने के तौर पर देखा जारहा है.

    ज्ञात हो कि, सिद्धू पिछले दो साल से कैप्टन अमरिंदर सिंह और सरकार के खिलाफ मोर्चा खोले हुए हैं। वह लगातार ड्रग्स, 2015 में गुरु ग्रन्थ साहिब के बेआबदी का मामला उठाकर अपनी ही सरकार को कठघरे में खड़े कर रहे थे। दोनों नेताओं के बीच शुरू इस लड़ाई में पंजाब कांग्रेस दो फाड़ होने की कगार पर खड़ी हो गई थी। 

    मामला सुलझाने बनाई समिति 

    पंजाब अगले साल यानी 2022 की शुरुआत में विधानसभा चुनाव होने वाले हैं। चुनाव में समय दोनों नेताओं के बीच शुरू लड़ाई कांग्रेस को बड़ा नुकसान पहुंचा सकता था। जिसको देखते हुए सोनिया गांधी ने मामला सुलझाने के लिए तीन सदस्यीय समिति का गठन किया था। पंजाब कांग्रेस प्रभारी हरीश रावत की अध्यक्षता में बनी समिति के सामने सिद्धू, अमरिंदर सहित सभी नाराज नेताओं ने अपनी बात रखी। इन नेताओं से मिली फीडबैक पर समिति ने अपनी रिपोर्ट सोनिया गांधी को सौंपी।