कांग्रेस की संस्कृति है आतंकवाद के मुद्दे पर धर्म की राजनीती करना: भाजपा

नई दिल्ली. सुरक्षा एजेंसीयों ने जम्मू कश्मीर पुलिस के डीएसपीदेविंदर सिंह को आतंकियों के मदद करने के आरोप पर गिरफ्तार किया है. जिसके बाद लगातार उनके साथ पूछताछ शुरू है. वही इस मुद्दे पर राजनीती

नई दिल्ली. सुरक्षा एजेंसीयों ने जम्मू कश्मीर पुलिस के डीएसपी देविंदर सिंह को आतंकियों के मदद करने के आरोप पर गिरफ्तार किया है. जिसके बाद लगातार उनके साथ पूछताछ शुरू है. वही इस मुद्दे पर राजनीती शुरू होगई है. कांग्रेस ने इस मुद्दे पर  भाजपा और आरएसएस पर निशाना साधते हुए गृहमंत्री अमित शाह से कई सवाल किया है. वही भाजपा ने पलटवार करते हुए कांग्रेस पर आतंकवाद के मुद्दे पर राजनीती करने का आरोप लगते हुए कहा कि, आतंकवाद के मुद्दे को धर्म के साथ जोड़ना कांग्रेस की संस्कृति है." 

भाजपा के राष्ट्रीय प्रवक्ता संबित पात्रा ने पत्रकार सम्मेलन पर कांग्रेस पर पाकिस्तान की भाषा बोलने का आरोप लगते हुए कहा, " कांग्रेस पार्टी ने आज जिस तरह का व्यवहार दिखाया वह लोकतांत्रिक सर्जिकल स्ट्राइक का हकदार है। वे रोज पाकिस्तान को खुश कर रहे हैं।"

लोकसभा में कांग्रेस के नेता प्रतिपक्ष अधीर रंजन चौधरी और मीडिया प्रमुख रणदीप सुरजेवाला के बयान की निंदा करते हुए पात्रा ने कहा, " कांग्रेस ने समय-समय पर आतंक को धर्म से जोड़ा है। उन्होंने भगवा आतंक और हिंदू आतंकवाद जैसे शब्दों को गढ़ा है। सोनिया गांधी के कहने पर उन्होंने ‘भगवा आतंक’ शब्द गढ़ा था।"

भाजपा नेता ने कहा, ‘रोज सहलाते हैं पाकिस्तान की पीठ को, खंजर भोंकते हैं, हिंदुस्तान की पीठ पर, फिर कहते हैं, हमें देशद्रोही न कहो, तुम पर छोड़ते हैं हम, बताओ इनको क्या कहें।" कांग्रेस पर आतंकवाद के मुद्दे पर राजनीती करने का आरोप लगते हुए कहा, " जम्मू-कश्मीर का एक डीएसपी आतंकी गतिविधि में शामिल होने के कारण गिरफ्तार हुआ है। इस पूरे प्रकरण के बाद कांग्रेस ने वही किया है, जिसमें वह निपुण है, सक्षम है और वह है भारत पर हमला और पाकिस्तान को बचाने की साजिश।’

कांग्रेस पर धर्म की राजनीति करने का आरोप लगाते हुए भाजपा नेता ने कहा कि इस पूरी प्रक्रिया में कांग्रेस के अधीर रंजन ने आव देखा न ताव और मिनटों के अंदर धर्म ढूंढ लिया। आतंकवाद पर धर्म की राजनीति करना कांग्रेस की संस्कृति है।" उन्होंने कहा, " कांग्रेस ने मोदी जी पर हमला करते हुए उन्हें हिन्दू जिन्ना कहा था। हिंदू जिन्ना, हिंदू आतंकवाद जैसे शब्दों का प्रयोग करना कहीं न कहीं हिंदुओं को आतंकी सिद्ध करना है। राहुल गांधी ने भी कहा था कि हमें सिमी या इस्लामिक आतंकवाद से डर नहीं है, हमें हिंदुओं से डर है।"

कांग्रेस से सवाल पूछते हुए संबित पात्रा ने कहा, ‘कांग्रेस पाकिस्तान को क्लीन चिट क्यों देना चाहती है? भारत आज यह सवाल कांग्रेस से पूछ रहा है। 26/11 के बाद भी कांग्रेस ने ऐसा ही किया था। तब सोनिया गांधी ने हमलों के लिए आरएसएस को दोषी ठहराने के लिए दिग्विजय सिंह को भेजा था। राहुल गांधी पाकिस्तान के सहयोगी के रूप में क्यों काम कर रहे हैं? यही हमारा सवाल है। जब पाकिस्तान ने संयुक्त राष्ट्र में एक डोजियर प्रस्तुत किया तो राहुल गांधी का नाम सूची में सबसे ऊपर था।’

बतादे कि, सुरक्षा एजेंसीयों ने 12 जनवरी को हिजबुल मुजाहिदीन के दो आतंकी नवीद अहमद शाह उर्फ नवीद बाबू और रफी अहमद के साथ जम्मू-कश्मीर पुलिस के डीएसपी देविंदर सिंह को गिरफ्तार किया था. वह श्रीनगर एअरपोर्ट पर तैनात था. गिरफ्तार करने के बाद आईबी और रॉय उससे कड़ी पूछताछ कर रही जिसमे कई बड़ी जानकारिय सामने आई है. देवेंद्र सिंह के आवास पर तलाशी लेने पर वह से पुलिस को 3 AK-47 राइफल और 5 हैंड ग्रेनेड भी बरामद किए हैं. देवेंद्र सिंह को उस समय गिरफ्तार किया गया, जब वह आतंकियों के साथ एक कार में सवार होकर कहीं जा रहा था.

देविंदर सिंह की जगह देविंदर खान होता तो भाजपा आक्रामक होती: अधीर रंजन चौधरी
इसके पहले लोकसभा के नेता प्रतिपक्ष अधीर रंजन चौधरी ने भाजपा और आरएसएस पर निशाना साधते हुए कहा था कि, "अगर पकडे गए डीएसपी देविंदर सिंह की जगह देविंदर खान होती तो भाजपा और आरएसएस के लोग और तीखी प्रतिक्रिया देते." आगे बोलते हुए चौधरी ने कहा, " वर्ण, मत और संप्रदाय से इतर देश के दुश्मनों की निंदा होनी चाहिए। घाटी में इस कमजोरी का खुलासा हुआ है वो हमें परेशान करने वाली है। अब सवाल यह पैदा होता है कि पुलवामा हमले के पीछे के असली गुनाहगार कौन हैं? इस मामले पर नए सिरे से जांच की जरूरत है।’

कांग्रेस ने किया केंद्र सरकार से सवाल
कांग्रेस के प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने इस मूदे पर केंद्र सरकार पर निशाना साधते हुए गृहमंत्री अमित शाह से सवाल किया है. उन्होंने पूछा, " देवेंदर सिंह कौन है? 2001 में संसद पर हुए हमले में उसकी क्या भूमिका थी, पुलवामा में हुए आतंकी  हमले में उसकी क्या भूमिका थी जहां वो डीएसपी के पद पर तैनात था।

कांग्रेस नेता ने पूछा है कि, "क्या वो अपनी कार में हिज्बुल के आतंकियों को ले जा रहा था या वो पूरी साजिश का केवल एक मोहरा है और इसका मुख्य साजिशकर्ता कहीं और है? आरोप है कि वो 12 लाख रुपये के एवज में 2 आतंकवादियों और उनके एक सहयोगी को दिल्ली ला रहा था। ये ड्यंत्र क्या था।"

पुलवामा हमले पर कांग्रेस ने केंद्र से पूछा कि, " हमले में हमारे 42 जवान शहीद हुए थे। वो आरडीएक्स कहां से आया? वो आरडीएक्स लेकर कौन आया? ये इतनी सुरक्षा के बाद कैसे हो गया? जो कार सेना के काफिले में नहीं आ सकती थी वो कार कहां से आ गई?"

पकडे गए डीएसपी को मेडल दिए जाने पर भी सवाल उठाते हुए सुरजेवाला ने कहा, ‘एक तरफ आप देविंदर सिंह को पुलिस मेडल दे रहे हैं। दूसरी तरफ देविंदर तीन आतंकियों को प्रवेश करा रहा था। सरकार कह रही है कि उसको इसकी एवज में 12 लाख रुपये मिलने थे। ये पूरी कहानी संशय पैदा करती है। इसकी जांच होनी चाहिए?’