jammu

    जम्मू. जहाँ एक तरफ जम्मू-कश्मीर (Jammu Kashmir) के किश्तवार जिले के एक सुदूर गांव में बुधवार तड़के बादल फटने (Cloud Burst) की घटना में 30 से अधिक लोग लापता हो गए। वहीं अब मिली जानकारी के अनुसार जम्मू कश्मीर (Jammu Kashmir) के होंजर डच्चन (अनंतनाल्लाह) गांव में बादल फटने (Cloud Burst) से भयंकर तबाही मच गई है।  इस आपदा के चलते चार लोगों की मौत हो गई है जबकि 40 लोग अब भी लापता बताए जा रहे हैं।  

    देखें घटना का Video :

    Courtsey:  Rajinder Singh

    फिलहाल बचाव के लिए पुलिस, सेना और बचाव की अन्य टीमें मौके पर आ पहुंची हैं।  लापता लोगों की तलाश जारी है।  इससे पहले आज जम्मू कश्मीर के डिप्टी कमिश्नर ने बताया कि होंजर गांव में बादल फटने के बाद 8-9 घर क्षतिग्रस्त हुए हैं।  मलबों से अबतक 4 शव निकाले गए हैं।  इसके साथ ही केंद्रीय मंत्री जितेंद्र सिंह ने ट्वीट कर जानकारी दी कि, आर्मी और SDRF की मदद से बचाव कार्य जारी है।  इसके साथ ही 30-40 लोग अब भी लापता हैं।  घायलों को एयरलिफ्ट करने की जरूरत पड़ने पर IAF से भी संपर्क साधा गया है।  ऐसे मामले में फिलहाल नौसेना से भी मदद ली जाएगी। 

    अमित शाह की भी है घटना पर निगाहें :

    इस मामले पर केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने कहा कि, ” किश्तवाड़ (J&K) में बादल फटने के संबंध में आज मैंने जम्मू-कश्मीर के LG और DGP से बात की है।  SDRF, सेना और स्थानीय प्रशासन बचाव कार्य में लगा हुआ है, NDRF भी जल्द ही वहां पहुंच रही है।  अधिक से अधिक लोगों की जान बचाना हमारी प्राथमिकता है।  शोकाकुल परिवारों के प्रति संवेदना व्यक्त करता हूं। ” इधर इस घटना पर  जम्मू कश्मीर के LG ने इस घटना पर भारी संवेदना प्रकट की है और लगातार स्थिति की निगरानी करने की बात कही गई है। 

    इस घटना पर पुलिस महानिदेशक वीके सिंह ने बताया कि मारे गए पांच लोगों में दो महिलाएं हैं। वहीं 25 लोग अब भी लापता हैं। सिंह होम गार्ड, नागरिक सुरक्षा तथा एसडीआरएफ के कमांडेंट जनरल भी हैं। उन्होंने कहा, “किश्तवाड़ से एसडीआरएफ की हमारी एक टीम प्रभावित गांव पहुंची, दो और टीमें डोडा और उधमपुर जिलों से रवाना हो रही हैं। एसडीआरएफ के दो और दल मौसम साफ होने का इंतजार कर रहे हैं, उन्हें जम्मू और श्रीनगर से हवाई मार्ग से घटनास्थल पर पहुंचाया जाएगा।” 

    सिंह ने कहा कि बादल फटने से छह मकान और एक राशन की दुकान क्षतिग्रस्त हुईं। किश्तवाड़ के जिला विकास आयुक्त ने बताया कि सुदूर लोम्बार्ड क्षेत्र में रात को बादल फटने की दो और घटनाएं हुईं लेकिन वहां किसी के हताहत होने की कोई खबर नहीं है। शर्मा ने कहा, “अवसंरचनाओं को नुकसान पहुंचा है लेकिन उसकी उचित जानकारी मिलना अभी बाकी है।” उन्होंने कहा कि लगातार बारिश को देखते हुए पद्दार क्षेत्र से करीब 60 परिवरों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाया गया है।” 

    गौरतलब है कि जम्मू में बीते कुछ दिनों से भारी बारिश हो रही है। जुलाई माह के अंत तक और अधिक बारिश होने का अनुमान है, जिसके चलते किश्तवाड़ के अधिकारियों ने जलाशयों के निकट रहने वाले और फिसलन वाले क्षेत्रों के लोगों से सतर्क रहने को कहा है।जिला प्रशासन ने मंगलवार रात को जारी एक परामर्श में कहा, ‘‘मौसम विभाग का पूर्वानुमान है कि आने वाले दिनों में भारी बारिश हो सकती है जिससे नदियों और नालों में जल स्तर बढ़ सकता है और उनके निकट रहने वाले लोगों के लिए खतरा हो सकता है।”