voting
File Pic

    Loading

    इंफाल: मणिपुर में विधानसभा चुनाव के पहले चरण (Manipur Phase 1 Voting) में 38 सीटों के लिए सोमवार सुबह नौ बजे तक 12.09 लाख मतदाताओं में से 9.9 प्रतिशत मतदाताओं ने अपने मताधिकार का इस्तेमाल किया। पुलिस ने बताया कि चुराचांदपुर जिले के सुदूर इलाके में दो राजनीतिक दलों के बीच झड़प में एक व्यक्ति घायल हो गया। निर्वाचन अधिकारी ने बताया कि झड़प में एक इलेक्ट्रॉनिक वोटिंग मशीन क्षतिग्रस्त हो गयी, उसे बदल दिया गया है और मतदान शीघ्र शुरू हो जाएगा। 

    मणिपुर विधानसभा के लिए सुबह सात बजे मतदान शुरू हुआ था। कोविड-19 संबंधी दिशानिर्देशों का पालन करते हुए, कड़ी सुरक्षा के बीच पांच जिलों की 38 सीटों के लिए मतदान हो रहा है। इस चुनाव में पांच महिलाओं सहत कुल 173 उम्मीदवार चुनाव मैदान में हैं। मतदान शुरू होने के करीब आधे घंटे के भीतर राज्यपाल ला गणेशन और मुख्यमंत्री एन बीरेन सिंह ने अपने-अपने निर्वाचन क्षेत्रों में वोट डाला। 

    इम्फाल वेस्ट जिले के सगोलबंद निर्वाचन क्षेत्र में टीजी उच्च माध्यमिक विद्यालय में बने मतदान केन्द्र में वोट डालने के बाद राज्यपाल गणेशन ने मणिपुर के सभी पात्र मतदाताओं से अपने मताधिकारों का इस्तेमाल करने की अपील की। मुख्यमंत्री सिंह और उनकी पत्नी ने इम्फाल ईस्ट जिले के हिंगांग निर्वाचन क्षेत्र में एक ‘मॉडल’ मतदान केन्द्र में वोट डाला। मुख्यमंत्री ने लोगों से शांति बनाए रखने की अपील की है। 

    प्रमुख उम्मीदवारों में मुख्यमंत्री, विधानसभा अध्यक्ष वाई खेमचंद सिंह, उपमुख्यमंत्री एवं एनपीपी उम्मीदवार युमनाम जॉयकुमार और मणिपुर कांग्रेस अध्यक्ष एन लोकेश सिंह शामिल हैं। कुल 38 सीटों में से, 10 निर्वाचन क्षेत्र इंफाल ईस्ट में, 13 इंफाल वेस्ट में, बिष्णुपुर और चुराचांदपुर में छह-छह और कांगपोकपी जिले में तीन सीटें हैं। नौ सीटें अनुसूचित जनजाति और एक अनुसूचित जाति के लिए आरक्षित हैं। मुख्य निर्वाचन अधिकारी राजेश अग्रवाल ने कहा था कि कुल 173 उम्मीदवारों में से 39 का आपराधिक इतिहास रहा है।