बैंक खातों को आधार से जोड़ने अवकाश के दिन भी चलाएं अभियान

  • बैंक अधिकारियों के साथ समीक्षा बैठक में जिलाधिकारी ने दिए निर्देश

नंदुरबार. जिलाधिकारी डॉ. राजेंद्र भारुड (DM Dr. Rajendra Bharud) की अध्यक्षता में विभिन्न योजनाओं की समीक्षा बैठक का आयोजन किया गया। बैठक को संबोधित करते हुए डीएम डॉ. राजेंद्र भारुड बैंक अधिकारियों को ग्रामीण क्षेत्रों में लोगों के बैंक खातों को आधार (Aadhaar) से जोड़ने के निर्देश दिए हैं.

जिलाधिकारी ने बैंक अधिकारियों से कहा कि लोगों के लंबित आवेदनों पर कार्रवाई करने के लिए अवकाश के दिन भी एक विशेष अभियान शुरू कर मामलों का निपटारा कर अधिक से अधिक नागरिकों के बैंक खातों (Bank accounts) को आधार से लिंक करने का कार्य करें। जिला स्तरीय सलाहकार समिति की बैठक में ज़िला परिषद मुख्य कार्यकारी अधिकारी रघुनाथ गावडे, विभागीय महाव्यवस्थापक डॉ. अजित मराठे, राकेश कुमार, जयंत देशपांडे, नाबार्ड के प्रमोद पाटिल आदि अधिकारी उपस्थित थे।

जिलाधिकारी भारुड ने अधिकारियों से कहा कि अब ज़िले के ग्रामीण क्षेत्रों में इंटरनेट और बिजली की कमी महसूस नहीं होगी। जल्द ही धडगांव और तोरनमाल में बिजली लाइनों और सब स्टेशनों के निर्माण के साथ ही  इंटरनेट की समस्याओं को भी दूर किया जाएगा। उन्होंने बैंक अधिकारियों को निर्देश दिए कि अधिक से अधिक नागरिकों को बैंकिंग लेनदेन की धारा में लाने प्रयास करें, ताकि कोई भी व्यक्ति बैंक खाते से वंचित न रह पाए।

ग्रामीण क्षेत्रों में विकास को गति देने में बैंक की महत्वपूर्ण भूमिका है क्योंकि सरकारी योजनाओं का लाभ उठाने के लिए उन्हें बैंक खाते की आवश्यकता होती है। नीति आयोग ने जिला विकास के विभिन्न पहलुओं में हुई प्रगति की सराहना की है और आशा व्यक्त की है कि बैंक के प्रदर्शन में प्रगति होगी।

बैठक में प्रधानमंत्री जीवन ज्योति योजना, अटल पेंशन योजना, जनधन योजना, मुद्रा योजना, फसल ऋण आवंटन सहित विभिन्न योजनाओं में बैंकों के प्रदर्शन की समीक्षा की गई।

2021-22 के लिए जिला क्रेडिट योजना का ब्यौरा प्रकाशित

इस अवसर पर जिला कलेक्टर द्वारा 2021-22 के लिए जिला क्रेडिट योजना का ब्यौरा प्रकाशित किया गया। 1685 करोड़ 73 लाख रुपये की रूपरेखा तैयार की गई है। इस साल खरीफ के 324 करोड़ रुपये के फसली ऋण का वितरण किया गया है, जो गत वर्ष की तुलना में अधिक है। पिछले वर्ष 291 करोड़ रुपये फसल ऋण दिया गया था। जिलाधिकारी ने बैंक अधिकारियों को निर्देशित किया कि किसानों को रबी मौसम के लिए भी ऋण प्रदान करने के लक्ष्य को प्राप्त किया जाए।